अति पिछडा बनने रौनियार चला रहे हैं जनजागरण

बिहार कथा न्यूज नेटवर्क. मधुबनी/गोपालगंज.बिहार में ओबीसी में आने वाले रौनियार समाज इन दिनों प्रदेश भर में जनजागरण कार्यक्रम चला रहा है. यह जनजागरण अपने ही समाज के लोगों को जगा कर उन्हें पिछडा वर्ग से अति पिछडा वर्ग में शामिल करने की मांग आंदोलन में शामिल होने के लिए है. सरकार पर दबाव डालने के लिए 30 दिसम्बर को पटना के बापू सभागार में पूरे देश से रौनियार समाज को बुला कर सम्मेलन कर रहे हैं. इन दिनों रौनियर महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अशोक गुप्ता के नेतृत्व में यह जनजागरण चल रहा है. अपने समाज को जगाने के लिए रौनियार महासभा के प्रदेश अध्यक्ष डॉ कामेश्वर प्रसाद गुप्ता एव राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राम प्रसाद गुप्ता रौनियार जागरण रथ लेकर पूरे बिहार में भ्रमण कर रहे हैं. पिछले दिनों यह रथ मधुबनी जिले के जयनगर पहुंचा, जहां शंकर प्रसाद गुप्ता के यहां रौनियार समाज के लोगो के साथ बैठक की गई। इस बैठक की रौनियार महासभा के मधुबनी जिलाअध्यक्ष रामु गुप्ता ने की.
अंतिम हिंदू सम्राट हेमू रौनियार समाज से थे
पटना में 30 दिसंबर को आयोजित कार्यक्रम में बतौर विशिष्ट अतिथि के रूप में शामिल होने के लिए आमंत्रित रौनियार समाज पर आखिर कौन था हेमू नाम से शोध करने वाले गोपालगंज के हथुआ के सुबोध गुप्ता का कहना है कि समाज के लोग आज भी मुख्यधारा से कटे हुए हैं. समाजिक और शैक्षणिक रूप से पिछडे हुए हैं. हेमू 15वीं सदी में भारत के प्रथम अमर शहीर, प्रथम स्वतंत्रा सेनानी अंतिम हिंदू सम्राट बौद्ध विक्रमादित्य थे. इन्हीं के वंशस जिन्हें वर्तमान में रौनियार वैश्य कहा जाता है, आज शैक्षणिक और समाजिक रूप से अतिपिछडा है. इसे समाज की मुख्यधारा से जोडने के लिए अति पिछडा वर्ग में शामिल करना जरूरी है.






Related News

  • सिवान के DM रहे आईएएस की जिस डॉक्टर लड़की से होने वाली थी शादी, उसने छत से कूद कर दी जान
  • आंगनवाड़ी केंद्र संचालित करने वाली सेविका का नही कटेगा वेतन
  • अति पिछडा बनने रौनियार चला रहे हैं जनजागरण
  • कलेक्टर पति के सरकारी आवास के सामने धरने पर बैठी पत्नी
  • वीणा देवी के खर्चे को ललन सिंह का चुनावी खर्चा बता दिया आयोग ने
  • लालू प्रसाद की हत्या की साजिश का खुलासा.
  • बिहार में सपना चौधरी का डांस देखने के लिए बेकाबू हुई भीड़, भगदड़ में 1 की मौत कई घायल
  • कर्पूरी ठाकुर ने जगाई थी पिछडे वर्ग में राजनीतिक चेतना
  • Leave a Reply

    Share
    Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com