कर्पूरी ठाकुर ने जगाई थी पिछडे वर्ग में राजनीतिक चेतना

हथुआ/गोपालगंज/सिवान. बिहार में पहली बार पिछडे वर्ग की आरक्षण की घोषणा 40 वर्ष पूर्व 11 नवंबर 1977 को तत्कालीन मुख्यमंत्री कर्पूरी ठाकुर ने की थी. इसको लेकर दलित पिछडा वर्ग जनजागरण संघ ने जननायक कर्पूरी ठाकुर को याद किया. इस मौके पर संघ के संयोजक संजय कुमार ने कहा कि भारत में समाजवादी आंदोलन के एक बड़े नेता, बिहार में अपने जीवन काल में पिछड़ा वर्ग के सबसे बड़े नेता और सूबे के दो बार मुख्यमंत्री रहे कर्पूरी ठाकुर की बीते एक दशक में बिहार की राजनीति में प्रासंगिकता बढ़ गई है.
11 नवंबर 1978 को उन्होंने महिलाओं के लिए तीन फीसदी (इसमें सभी जातियों की महिलाएं शामिल थीं), ग़रीब सवर्णों के लिए तीन फीसदी और पिछडों के लिए 20 फीसदी यानी कुल 26 फीसदी आरक्षण की घोषणा की. इसके लिए ऊंचे तबकों ने एक बड़े वर्ग ने भले ही कर्पूरी ठाकुर को कोसा हो, लेकिन वंचितों ने उन्हें सर माथे बिठाया. इस हद तक कि 1984 के एक अपवाद को छोड़ दें तो वे कभी चुनाव नहीं हारे.





Related News

  • राबड़ी देवी की अचानक तबीयत बिगड़ी, कई नेता हाल समाचार लेने पहुंचे
  • हथुआ के गोपश्वर कॉलेज का नाम बदला, अब लॉ और पत्रकारिता की भी होगी पढाई
  • देश के 150 पुलिस थानों में पीएम मोदी के खिलाफ मुकदमे दर्ज
  • लइका चिलालसन माल माल रे, अक्षरा बोली कौन ह मुअना
  • राज्यपाल के आगमन को लेकर सजा हथुआ पैलेस
  • बिहार में ऐसे ऐसे लूट गया हिन्दी प्रेमियों का सपना वीरेंद्र यादव
  • बीपीएससी की तैयारी करने वाले जरूर पढें, बिहार के सिविल सेवा नियम में यह बडा बदला
  • बिहार: गोपालगंज में लडकियों की सोशल मीडिया एकाउंट हैक कर ब्लैकमेल करने का खेल
  • Comments are Closed

    Share
    Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com