अब्दुल गफ़ूर : बिहार का एक ऐसा सीएम, जिसे दो ब्राह्मणों ने षड्यंत्र कर हटवा दिया था

स्मृति शेष 
अब्दुल गफ़ूर बतौर मुख्यमंत्री 2 वर्षों तक रहे. वह 2 जुलाई 1973 से 11 अप्रैल 1975 तक बिहार के सीएम रहे। 1975 में तत्कालीन प्राधानमंत्री इंदिरा गांधी ने उनकी जगह जगन्नाथ मिश्रा को मुख्यमंत्री बनवा दिया. कहा जाता है कि गफूर के खिलाफ उनके ही दल में बड़ी साजिश की गयी जिसका उन्हें बखूबी एहसास था. केदार पाण्डे और जगन्नाथ मिश्र के बीच अब्दुल गफ़ुर पीस कर रह गए पर उन्होने हार नही माना. 1984 मे कांग्रेस के टिकट पर सिवान से जीत कर सांसद बने और वे 1984 के राजीव गांधी सरकार का अलग खेमा था. वह इससे पहले नगर विकास विभाग मंत्री भी रहे और फिर 1996 मे गोपालगंज से समता पार्टी के टिकट पर जीत कर संसद पहुचे.
अब्दुल गफ़ुर पहली बार 1952 मे बिहार विधान चुनाव मे जीत कर विधायक बने और वे बिहार विधान परिषद् के अध्यक्ष भी रहे.
18 मार्च 1918 मे बिहार के गोपालगंज ज़िला के सराए अख़तेयार के एक इज़्ज़तदार ख़ानदान मे पैदा हुए अब्दुल गफ़ुर बचपन से ही मुल्क के लिए कुछ करना चाहते थे. गोपालगंज से ही इबतदाई तालीम हासिल की फिर आगे पढ़ने के लिए पटना चले आए, पढने मे तेज़ तो थे ही इसलिए घर वालों ने अलीगढ़ मुस्लिम युनिवर्सिटी भेज दिया जहां से आपका सियासी सफ़र शुरु हुआ.
गफूर हिन्दुस्तान को आज़ाद कराने का जज़्बा लिए जंगे आज़ादी मे कूद पड़े जिस वजह कर सालो जेल मे रहना पड़ा. अब्दुल गफ़ूर ने जिन्ना की टु नेशन थेयोरी को ठुकरा दिया और अखंड भारत की तरफदारी की, फिर देश आज़ाद हुआ तो 1952 मे बिहार विधान चुनाव मे जीत कर विधायक बने फिर 2 जुलाई 1973 से 11 अप्रैल 1975 तक बिहार के सीएम रहे। केंद्र मे मंत्री भी बने फिर आखि़रकार लम्बी बिमारी से लड़ते हुए 10 जुलाई 2004 को पटना मे इस दुनिया को हमेशा के लिए अलविदा कह दिया.
अब्दुल ग़फ़ूर को उनके गांव सराए अख़तेयार मे दफ़नाया गया। पटना मे अब्दुल ग़फ़ुर के नाम पर ना कोई कालेज दिखता है और ना ही कोई स्कूल , यहाँ तक के एक सड़क भी नहीं.
( Md Irfan ALi Guddu के फेसबुक टाइमलाइन से साभार  )





Related News

  • गोपालगंज : ये लोग नाली के कीचड़ से निकाल लेते हैं सोना
  • बिहार का गांव, यहां गूंजती है कृष्ण की बांसुरी की धुन
  • हे कर्णावती! मत भेजना हुमायूँ को राखी
  • जन्मदिन पर पिता ने दिया था सोने की चेन और बिटिया ने केरल के दर्द को देखते हुए कर दिया दान
  • शिक्षक से जेल सुपरिटेंडेंट बने हथुआ के सुजीत राय
  • 26 वर्ष की मेहनत के बाद हथुआ के समीर को मिली बीपीएससी में सफलता
  • 15 अगस्त की तारीख
  • (सीवान) शहीद स्मारक स्थल आज बाजारों के नाम से बेशुमार
  • Comments are Closed

    Share
    Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com