इससे पहले नहीं हुई थी नीतीश की ऐसी बेइज्जती, 52 देशों के प्रतिनिधियों के सामने लगे ‘नीतीश-सुशील चोर’ के नारे

बिहार कथा न्यूज नेटवर्क. पटना. पटना में चल रहे छठे कॉमनवेल्थ पार्लियामेंटरी समिट में 52 देशों के रिप्रेजेंटेटिव के सामने बिहार के सीएम नीतीश कुमार की ऐसी बेइज्जती पहले कभी नहीं हुई होगी. इस समिट में आरजेडी विधायकों ने जमकर हंगामा किया और सीएम नीतीश कुमार के अलावा सुशील कुमार मोदी के खिलाफ शर्मनाक नारे लगाए गए। मिली जानकारी के अनुसार बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी करप्‍शन पर बोल रहे थे। मोदी बता रहे थे कि भारत में करप्शन के खिलाफ एक्शन लिया जा रहा है। केंद्र की बीजेपी और राज्य सरकार इस मामले में मिलकर काम कर रही हैं। इसका नतीजा है कि भ्रष्टाचार के मामले में 4 पूर्व मुख्यमंत्री जेल में बंद हैं। सुशील मोदी ने जैसे ही कहा कि भ्रष्टाचार के मामले में सजा पाकर 5 पूर्व मुख्यमंत्री किसी न किसी जेल में बंद हैं, आरजेडी विधायकों ने हंगामा कर दिया। सभी विधायक नारे लगाने लगे।

वहींविपक्ष नेता तेजस्वी यादव ने कहा कि इस मामले में राष्ट्रमंडल संसदीय संघ सम्मेलन, पटना में दागियों के सरगना सुशील मोदी ने 52 देशों के प्रतिनिधियों के सामने बिहार को कलंकित करने का काम किया है। बिहार के सबसे बड़े 420 भाजपाई नेता सुशील मोदी ख़ुद अनेकों मामलों में दाग़ी हैं। ये सबसे बड़े घोटालेबाज़ है। तेजस्वी ने कहा कि सुशील मोदी ने राष्ट्रमंडल संसदीय संघ सम्मेलन में यह क्यों नहीं बताया कि बिहार के मुख्यमंत्री पर संगीन हत्या का मामला दर्ज है? मुख्यमंत्री नीतीश कुमार एक JNU छात्र की थीसिस चुराने के आरोप में सज़ायाफ्ता हैं। बिहार की मंत्रिपरिषद में 75 फ़ीसदी मंत्री दाग़ी हैं।
बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने सवाल किया कि सुशील मोदी ने यह क्यों नहीं बताया कि नीतीश के नेतृत्व में बिहार मे रिकॉर्डतोड़ 40 घोटाले हुए है?यह क्यों नहीं बताया की उनकी बहन और उन्होंने सृजन घोटाले में करोड़ों रुपये लिए हैं। अपना काला भ्रष्टाचार छिपाने के लिए सुशील मोदी ने इस मंच का प्रयोग किया। तेजस्वी के अनुसार सुशील मोदी को संसदीय प्रणाली तार-तार करने के लिए माफ़ी मांगनी चाहिए. मुख्यमंत्री से मौनी बाबा बने नीतीश कुमार को भी इस घटना पर मुंह खोलना चाहिए कि क्या मजबूरी है कि उन्होंने ऐसे तर्कहीन व्यक्ति को उपमुख्यमंत्री बना रखा है?
छठे कॉमनवेल्थ पार्लियामेंटरी समिट का आयोजन बिहार में हो रहा है। इसमें 52 देशों के प्रतिनिधि शामिल हुए। शनिवार को पटना के ज्ञान भवन में सम्मेलन का इनॉगरेशन हुआ। इस मौके पर लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी शामिल हुए।






Related News

  • बेगूसराय में एससी एसटी कानून के खिलाफत में आया सवर्ण समाज
  • बिहार में मुखिया, उप मुखिया अब मंत्री केआदेश पर ही होंगे बर्खास्त
  • बिहार में बन रहा है 1161 करोड़ का खूबसूरत पुल
  • छठिहार महोत्सव को लेकर सजा हथुआ का गोपाल मंदिर
  • स्वाती शाकम्भरी को मिलेगा मैसाम युवा सम्मान 2018
  • लालू की नींद न हो खराब, इसलिए कुत्तों को भगाने के लिए गार्ड की ड्यूटी
  • गोपालगंज : मानसून कार रैली ने दिया सेफ ड्राइविंग का संदेश
  • हथुआ राज परिवार बना कुशीनगर वर्षावास पूजन में मुख्य अतिथि
  • Comments are Closed

    Share
    Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com