लापरवाही पर चार जिलों के शिक्षा पदाधिकारी से जवाब तलब

बक्सर. प्रोन्नति संबंधित फाइल समय से जमा नहीं करने के मामले में निदेशक माध्यमिक ने चार जिलों के डीईओ पर शोकॉज किया है. जिन पर यह कार्रवाई हुई है इनमें बक्सर, भोजपुर, रोहतास तथा नालंदा के डीईओ शामिल हैं. निदेशक ने इसका जवाब भी मांग है कि आपने ससमय प्रोन्नति का फोल्डर क्यों जमा नहीं किया. फोल्डर ससमय नहीं जमा होने के कारण प्रोन्नति रुक गयी है. बार-बार कहने के बावजूद इन लोगों के द्वारा जमा नहीं किया गया.पत्रांक संख्या 2515 के माध्यम से यह सूचना दी गयी है.
निदेशक द्वारा की गयी इस कार्रवाई से शिक्षा विभाग में हड़कंप मचा हुआ है. निदेशक ने कहा कि कई दिनों से प्रोन्नति का कार्य लटका हुआ था जिसे करने को लेकर समय सीमा के अंदर फोल्डर जमा करने का निर्देश दिया गया था. फिर अधर में लटक गया प्रोन्नति का मामला : समय से फोल्डर नहीं जमा करने के कारण चार जिलों के शिक्षकों का कार्य अधर में लटक गया. ऐसे में इन शिक्षकों को कुछ दिनों का और इंतजार करना पड़ेगा. आलम यह है कि शिक्षा विभाग को भी यह पता नहीं है कि कितने के प्रोन्नति का फोल्डर अब तक विभाग के पास जमा हुआ है. इसे लेकर बार-बार सूचना भेजा जा रहा था. इसके बावजूद समय से फोल्डर नहीं जमा हो सका.
बक्सर में 54 शिक्षकों का रुका प्रोन्नति : बक्सर जिले से 54 शिक्षकों की प्रोन्नति का फोल्डर माध्यमिक शिक्षा निदेशालय के यहां जमा करना था, जिसमें से 47 लोगों का फोल्डर जमा कर दिया गया था. जबकि शेष लोगों का फोल्डर जमा नहीं किया गया था. विभाग ने बार-बार डीईओ को पत्र लिखकर फोल्डर जमा करने का निर्देश दिया. बावजूद आज तक फोल्डर जमा नहीं हुआ, जिसके बाद मामले को गंभीरता से लेते हुए निदेशक द्वारा बिहार के कतिपय आरडीडीई का फोल्डर जमा होने तक वेतन भुगतान स्थगित कर दिया गया है.
इन शिक्षकों का नहीं जमा हुआ फोल्डर : प्रोन्नति संबंधी फोल्डर सात शिक्षकों का समय से जमा नहीं हुआ, जिसमें गुप्तेश्वर सिंह बक्सर उच्च विद्यालय बक्सर, सुरेंद्र सिंह उच्च विद्यालय कठार, अखिलेश राय, गंगा आदर्श उच्च विद्यालय डिहरी, गोविंद लाल मिश्र उच्च विद्यालय अटांव, दीनानाथ राम राज उच्च विद्यालय डुमरांव, अशोक कुमार तिवारी बक्सर उच्च विद्यालय बक्सर, कमलाशंकर यादव उच्च विद्यालय निमेज इनमें से कुछ शिक्षक सेवानिवृत्त भी हो चुके हैं और एक शिक्षक की मौत हो गयी है और एक शिक्षक के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज की गयी है.
पटना के आरडीडीआई चंद्रशेखर सिंह का कहना है कि शिक्षकों के प्रोन्नति संबंधी अभिलेख बार-बार आदेश के बावजूद डीईओ द्वारा जमा नहीं करना उनके कार्य के प्रति लापरवाही और कर्तव्य के प्रति उदासीनता का परिचायक है. जिसे विभाग ने गंभीरता से लेते हुए डीईओ के विरुद्ध कार्रवाई का प्रस्ताव निदेशालय को भेज रहा है.






Related News

  • आबादी के अनुसार तेली जाति को मिले उचित राजनीति भागीदारी
  • अरे वाह! देश के सबसे पिछडे जिलों की सूची में शामिल नहीं है, सीवान, गोपालगंज और छपरा
  • समान काम समान वेतन आ निर्णय अब 12 जुलाई को होगा :सुप्रीम कोर्ट
  • चारा घोटाला: दुमका केस में लालू यादव को 17 साल की सजा, कोर्ट ने 60 लाख का जुर्माना भी लगाया*
  • पटना से रात-दिन उड़ेंगे 92 विमान, जानिए कहां-कहां की होगी डायरेक्ट फ्लाइट
  • मैट्रिक मूल्यांकन शुरू तो हुआ, पर नहीं पहुंचा मार्क्स फोलियो
  • मैट्रिक कॉपी की जांच के लिए 8 दिन लगे रहे 7 शिक्षक
  • हाय राम! प्रेमी संग फरार हुई पंचायत की मुखिया
  • Comments are Closed

    Share
    Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com