भ्रष्टाचार के खिलाफ बोलने पर भाजपा ने निलंबित किया : आजाद

मनोज पाठक
पटना,(आईएएनएस)| भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से निलंबित सांसद और पूर्व क्रिकेट खिलाड़ी कीर्ति आजाद ने कहा है कि वरिष्ठ भाजपा नेता अरुण जेटली दिल्ली जिला क्रिकेट संघ (डीडीसीए) को संभाल नहीं सके, लेकिन आज वह पूरे देश की वित्त व्यवस्था की जिम्मेदारी संभाल रहे हैं। उल्लेखनीय है कि जेटली इस समय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की केंद्र सरकार में वित्तमंत्री हैं।
आजाद ने कहा कि केन्द्र की हर सरकार ने मिथिला क्षेत्र की उपेक्षा की है। उन्होंने कहा कि मिथिला को सबसे पहले राज्य का दर्जा मिलना चाहिए था। बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री भागवत झा आजाद के पुत्र कीर्ति ने आईएएनएस के साथ विशेष बातचीत में कहा, “एक तरफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कहते हैं कि ‘न खाऊंगा और न खाने दूंगा’ और दूसरी ओर भ्रष्टाचार के आरोपित लोगों को देश के वित्त मंत्रालय की जिम्मेदारी देते हैं, इसे क्या समझा जाए?”
आजाद यहीं नहीं रुके। उन्होंने बेबाकी से कहा कि भ्रष्टाचार के खिलाफ बोलने के कारण उन्हें पार्टी ने निलंबित किया। दरभंगा से तीन बार सांसद रहे आजाद सवालिया लहजे में कहते हैं, “मैं पिछले 10 वषरें से डीडीसीए में भ्रष्टाचार का मुद्दा उठाता रहा हूं। अमित शाह से पहले के अध्यक्षों ने तो मुझे पार्टी से निलंबित नहीं किया।” उन्होंने कहा कि वह उसूलों में पले-बढ़े हैं और राजनीति भी उसूलों और मर्यादा के साथ करते हैं। अगर उनसे कोई गलती हो गई थी तो पार्टी उन्हें निष्कासित कर देती।
उन्होंने कहा, “मैं न तो पार्टी विरोधी गतिविधियों में संलिप्त रहा हूं और न ही पार्टी के विरुद्घ कोई टिप्पणी की है। मैंने व्यक्ति विशेष के बारे में कहा था और कह रहा हूं।”
मिथिला के विकास के विषय में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, “मिथिला की अब तक उपेक्षा ही हुई है। पृथक मिथिला राज्य की मांग तो काफी पहले से हो रही है। मिथिला की अलग संस्कृति है, अलग भाषा है, अलग लिपि है। मिथिला की चर्चा आदिकाल से हो रही है, परंतु आज तक पिछड़ा है।”
बिहार भाजपा में खेमेबाजी के प्रश्न पर उन्होंने चुप्पी साध ली, परंतु सुशाील मोदी का नाम आते ही उन्होंने कहा, “पूर्व उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी के कारण ही आज बिहार में भाजपा की यह स्थिति है।” मोदी को ‘बिना रीढ़’ का व्यक्ति बताते हुए उन्होंने कहा कि उस व्यक्ति ने कभी भी मिथिलांचल में नेतृत्व को उभरने नहीं दिया। उन्होंने स्पष्ट किया कि ये सभी लोग जनता के नकारे हुए लोग हैं।
बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की ‘निश्चय यात्रा’ के प्रश्न पर आजाद ने कहा कि मुख्यमंत्री के सात निश्चय बिहार के विकास के लिए एक अच्छा निर्णय है, जिसे पूर्ण होने की कामना करनी चाहिए।
बिहार में जनता दल (युनाइटेड) और राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के बीच गठबंधन तथा कथित ‘जंगलराज’ के विषय में पूछे जाने पर आजाद ने कहा कि जब से राज्य में महागठबंधन की सरकार बनी है तब से हत्या और अपहरण की घटनाएं बढ़ी हैं, परंतु इन घटनाओं के पीछे जिले के पुलिस कप्तान की कमजोरी भी हो सकती है।
कीर्ति ने पत्नी पूनम आजाद के आम आदमी पार्टी (आप) की सदस्यता ग्रहण करने के प्रश्न पर कहा, “आज लोग महिला सशक्तिकरण की बात कर रहे हैं। ऐसे में मैं कौन होता हूं उन्हें रोकने वाला? पूनम ने 30 वर्षो से ज्यादा समय तक परिवार चलाया है और अब वह ‘आप’ के साथ राजनीति करना चाहती हैं तो मेरी शुभकामना है।” क्रिकेटर आजाद ने भाजपा छोड़ने और आप में शामिल होने के प्रश्न पर कहा कि वह अभी भाजपा से निलंबित हैं। ऐसे में दूसरी पार्टी में जाने का प्रश्न नहीं है।
मिथिला की सांस्कृतिक पहचान ‘पाग बचाउ अभियान’ से जुड़े आजाद कहते हैं कि पाग मिथिला की आन, बान, शान, सम्मान, स्वाभिमान की पहचान है। उन्होंने कहा कि पाग बचाउ अभियान चलाने वाली संस्था मिथिला लोक फाउंडेशन के चेयरमैन डॉ़ बीरबल झा ने पाग को आधुनिक बना दिया है। उन्होंने कहा कि पाग अब सात रंगों में उपलब्ध है। उन्होंने कहा कि वह प्रतिदिन पाग पहनते हैं और संसद के शीतकालीन सत्र में भी वह प्रतिदिन पाग पहनकर सदन में जाएंगे।






Related News

  • आरएसएस प्रचार प्रमुख मनमोहन वैद्य बोले, खत्म होना चाहिए आरक्षण; लालू का पलटवार, कहा- बिहार में रगड़-रगड़ के धोया, कुछ धुलाई बाकी जो अब यूपी करेगा
  • कहानी सीवान के छोटे से गाँव रजनपुरा के एक कर्न्तिकारी युवा आशुतोष की
  • भ्रष्टाचार के खिलाफ बोलने पर भाजपा ने निलंबित किया : आजाद
  • अहिंसक भीड़ को नियंत्रित करना आसान नहीं होता : पी.वी. राजगोपाल 
  • शारदा सिन्हा का जन्मदिन: संघर्षों की कहानी अपनी जुबानी
  • गरिराज ने पूछा : नीतीशजी, अपमान सहकर कुर्सी से चिपकने की कैसी मजबूरी?
  • नीतीश परिस्थितियों नहीं, गठबंधन के मुख्यमंत्री, बिहार में कायम रहेगा कानून का राज: शरद यादव
  • आरएसएस मुखौटे खड़ा कर राजनीति को करता है नियंत्रित : हरिवंश
  • Comments are Closed