बिहार में कांग्रेस की 11 सीटों पर चेहरे लगभग तय, बस घोषणा है बाकी

एसए शाद,पटना. (जागरण डॉटकॉम से साभार)। लोकसभा चुनाव की डेट ज्यों-ज्यों नजदीक आ रही है, त्यों-त्यों एनडीए से लेकर महागठबंधन तक के उम्मीदवारों के नाम भी अब सामने आने लगे हैं। बस घोषणा बाकी रह गयी है। इसी कड़ी में अब कांग्रेस ने भी अपने उम्‍मीदवारों के नाम लगभग तय कर दिए हैं। बता दें कि महागठबंधन में कांग्रेस की सीटें लगभग तय हो चुकी हैं। कांग्रेस 11 सीटों पर चुनाव लडऩे की तैयारी में है। सीटों के साथ-साथ चेहरे भी तय हो चुके हैं। केवल औपचारिक घोषणा होनी बाकी है। उधर सीमांचल की दो सीटों को लेकर हालांकि अभी कुछ जिच बरकरार है, मगर कांग्रेस सूत्रों के मुताबिक मामले को सुलझा लिया गया है। पूर्णिया को लेकर राजद से विमर्श जारी है। इसी कारण भाजपा छोड़ चुके पूर्व सांसद पप्पू सिंह उर्फ उदय सिंह अब तक कांग्रेस में विधिवत शामिल नहीं हुए हैं। अगर राजद मधुबनी छोडऩे पर तैयार हो गया, तो पूर्णिया सीट उसके खाते में जाएगी और वैसी स्थिति में पप्पू सिंह राजद के प्रत्याशी बन सकते हैं।
राकांपा से कांग्रेस में आने वाले तारिक अनवर कटिहार से सांसद हैं। उन्हें कटिहार की जगह किशनगंज से कांग्रेस का प्रत्याशी बनाने की चर्चा थी। कटिहार की सीट महागठबंधन में शामिल विकासशील इनसान पार्टी के अध्यक्ष मुकेश सहनी को देने पर विमर्श हुआ था, मगर कटिहार सीट अब कांग्रेस के हिस्से में ही रहेगी। किशनगंज से कांग्रेस के सीटिंग सांसद मौलाना असरारूल हक का पिछले साल निधन हो गया है। इस सीट पर पूर्व मंत्री जाहिदुर्रहमान को कांग्रेस का प्रत्याशी बनाने की चर्चा है।
सुपौल कांग्रेस की दूसरी सीटिंग सीट है, जिस पर एक बार फिर रंजीत रंजन को उम्मीदवार बनाया जाएगा। वहीं, उनके पति पप्पू यादव के नाम पर कांग्रेस में अभी तक सहमति नहीं बन पाई है। पप्पू यादव ने जन अधिकार पार्टी बना रखी है, और इस बार वह कांग्रेस से चुनाव लडऩे के लिए प्रयासरत हैं। वह पिछला लोकसभा चुनाव मधेपुरा सीट से जीते थे। बताया जाता है कि उनके नाम पर राजद को एतराज था। मुंगेर से बाहुबली अनंत सिंह या उनकी पत्नी के नाम की घोषणा की जा सकती है। अनंत सिंह अभी मोकामा से निर्दलीय विधायक हैं। भाजपा से आए कीर्ति आजाद को दरभंगा का प्रत्याशी बनाया जा सकता है।
संभावित सीटें और चेहरे
1. सुपौल: रंजीत रंजन
2. कटिहार: तारिक अनवर
3. मुंगेर: अनंत सिंह या उनकी पत्नी
4. समस्तीपुर: अशोक राम
5. सासाराम: मीरा कुमार
6. पूर्णिया: पप्पू सिंह उर्फ उदय सिंह
7. दरभंगा: कीर्ति आजाद
8. किशनगंज: जाहिदुर्रहमान
9. मधुबनी: डॉ. शकील अहमद
10. वाल्मिकीनगर: पूर्णमासी राम
11. औरंगाबाद: निखिल कुमार





Related News

  • चितौड़गढ़’ ध्वस्त करने की पटकथा लिख दी लालू यादव ने !
  • जदयू में कहार या भूमिहार को मिलेगा जहानाबाद 18 मार्च
  • एनडीए में सीट तय हुई है, उम्मीदवार नहीं
  • इस तरह भाजपा में एक गैंग के शिकार बनें जनकराम और ऐसे हुई डा सुमन की जदयू में एंट्री
  • इस बार महाचंदर के लिए नहीं लडे मांझी, शत्रु पाले में, हारे या जीते शहाबुद्दीन की बीवी होंगी सिवान की उम्मीदवार! कुछ नामों पर तेजस्वी का किंतु परंतु!
  • बिहार में कांग्रेस की 11 सीटों पर चेहरे लगभग तय, बस घोषणा है बाकी
  • जनकराम, ओमप्रकाश और दवेंद्र चौधरी को मिला सरकार बनने के बाद सुनहरे भविष्य का लॉलीपॉप
  • अन्याय के खिलाफ चुप्पी साधने वाले जनकराम, ओमप्रकाश और वीरेंद्र को भाजपा ने किया टिकट से बेदखल!
  • Leave a Reply

    Share
    Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com