जीत के जिम्मेदार

पुुष्य मित्र

वोट की फसल भले कांग्रेस ने काटी हो, विपक्ष की असल भूमिका इन्हीं फेसबुकियों ने निभाई है।

वोटर बहुत स्मार्ट होते हैं। उसने दंभी भाजपा वालों को हराया तो मगर निक्कमे और चाटुकार कांग्रेसियों को भी एमपी और राजस्थान दोनों जगह फंसा कर रखा है। लोग समझ गए हैं, बहुमत मतलब अहंकार। उन्हें मजबूत सरकार नहीं, मजबूर सरकार पसंद है। जो हर फैसले के पहले दूसरे लोगों से भी विमर्श करे। मनमानी करते हुए कभी नोटबन्दी तो कभी जीएसटी जैसे फैसले न ले। उम्मीद है कि इस फैसले से मोदी सरकार ने भी अपने नथुने में लगाम की रस्सी का बल महसूस किया होगा।

एक और बात- पिछले 4-5 साल के राजनीतिक घटनाक्रम में सीखने की एक जरूरी बात है। वह यह कि किसी नेता की अंधभक्ति या उसका मुग्ध प्रशंसक बन जाना ही लोकतंत्र के लिये सबसे अधिक घातक होता है। इससे बचना चाहिये। कल से कई मित्र राहुल गांधी के बयान पर लहालोट हो रहे हैं, मगर उनलोगों ने गौर नहीं किया कि बयान से ठीक पहले सुरजेवाला ने उन्हें कांग्रेस का त्राता कहा और राहुल ने इस बात का कतई विरोध नहीं किया। कल के बयान का एक ही अर्थ है कि राहुल की टीम को पता है, अपने कोर वोटरों को कैसे खुश करना है। बाकी इस चुनाव में कांग्रेस किस तरह भाजपा होने की कगार पर पहुंच गई यह किसी से छुपा नहीं है।

कल के नतीजे, भाजपा के दम्भ को पराजित करने का श्रेय राहुल का तो कतई नहीं है। अगर किसी का है तो यह किसानों और नौजवानों के है और मोदी के जनविरोधी नीतियों के खिलाफ लम्बे समय से मुखर उन सोशल मीडिया वालों का है, जिन्होंने हर झूठ को समय पर उजागर किया और हर गलत फैसले का मजबूती से विरोध किया। वोट की फसल भले कांग्रेस ने काटी हो, विपक्ष की असल भूमिका इन्हीं फेसबुकियों ने निभाई है।






Related News

  • चितौड़गढ़’ ध्वस्त करने की पटकथा लिख दी लालू यादव ने !
  • जदयू में कहार या भूमिहार को मिलेगा जहानाबाद 18 मार्च
  • एनडीए में सीट तय हुई है, उम्मीदवार नहीं
  • इस तरह भाजपा में एक गैंग के शिकार बनें जनकराम और ऐसे हुई डा सुमन की जदयू में एंट्री
  • इस बार महाचंदर के लिए नहीं लडे मांझी, शत्रु पाले में, हारे या जीते शहाबुद्दीन की बीवी होंगी सिवान की उम्मीदवार! कुछ नामों पर तेजस्वी का किंतु परंतु!
  • बिहार में कांग्रेस की 11 सीटों पर चेहरे लगभग तय, बस घोषणा है बाकी
  • जनकराम, ओमप्रकाश और दवेंद्र चौधरी को मिला सरकार बनने के बाद सुनहरे भविष्य का लॉलीपॉप
  • अन्याय के खिलाफ चुप्पी साधने वाले जनकराम, ओमप्रकाश और वीरेंद्र को भाजपा ने किया टिकट से बेदखल!
  • Comments are Closed

    Share
    Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com