गोपालगंज में मुसलमानों को चेता गए या डेरवा गए आरपीसी सिंह

आए थे अल्पसंख्यकों के लिए योजनाएं बताने, कह गए- अल्पसंख्यक डरें नहीं

गोपालगंज के बरौली में आयोजित अल्पसंख्यक सम्मेलन में जदयू के राष्ट्रीय महासचिव राज्य सभा सांसद आरपीसी सिंह ने कहा है कि सूबे में न्याय के साथ विकास करने वाली सरकार है.

बिहार कथा न्यूज नेटवर्क. गोपालगंज। बरौली प्रखंड में आयोजत जदयू की अल्पसंख्यक सम्मेलन में जदयू के राष्ट्रीय महासचिव राज्य सभा सांसद आरपीसी सिंह ने कहा है कि अल्पसंख्यक डरे नहीं. यह आरपीसी सिंह का मुसलमानों का मनोबल बढाने के लिए सलाह है या उनके उपर भाजपा से खतरा होने की चेतावनी, यह तो वही जाने. लेकिन गोपालगंज की असल हकीकत यह है कि पिछले दो साल से गोपालगंज महजबी दंगे से दूर है. हर कौम अमन चैन से है. फिर पता नहीं कि जदयू सांसद को क्यों लगता है कि मुसलमान गोपालगंज में डर के रह रहे हैं. यदि ऐसा नहीं लगता तो वे ऐसा बयान क्यों देते. क्या इसका अर्थ यह लगाया जाए कि वे उनके अंदर भाजपा का डर दिखा कर अपनी पार्टी का पैठ मजबूत करना चाहते हैं. खैर इसका जवाब तो पब्लिक वोट से ही देगी. जदयू के राष्ट्रीय महासचिव राज्य सभा सांसद आरपीसी सिंह ने कहा है कि सूबे में न्याय के साथ विकास करने वाली सरकार है। नीतीश सरकार की स्पष्ट सोच है कि सूबे का विकास न्याय के साथ हो। अल्पसंख्यक समुदाय किसी से डरे नहीं। भारत के संविधान में प्रत्येक लोग की पूरी सुरक्षा निहित है।
लालू को भी लपेट दिया
सम्मेलन में नीतीश सरकार के अल्पसंख्यकों के विकास के लिए चलाई जा रही योजनाओं पर विस्तार से प्रकाश डाला गया। वहीं राजद तथा कांग्रेस पर भी जमकर निशाना साधा गया। राज्यसभा सांसद ने अल्पसंख्यक समुदाय को सचेत करते हुए कहा कि संविधान बचाने के नाम पर घूमने वालों के चक्कर में आने की जरूरत नहीं है। मन से डर निकाल दीजिए। भारत के संविधान के प्रस्तावना पर विस्तार से प्रकाश डालते हुए उन्होंने कहा कि फंडामेंटल राइट सूबे के प्रत्येक लोगों के लिए है। उन्होंने कटाक्ष करते हुए लालू को भी लपेटते हुए कहा कि हमने महागठबंधन तोड़ा है। अगर आज महागठबंधन होता तो किसी मुद्दे पर चर्चा करने के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को कहां जाना पड़ता। उनका इशारा लालू प्रसाद के जेल में होने की तरफ था। उन्होंने कहा कि नीतीश सरकार जाति, लिंग, भाषा के भेदभाव के बिना जन जन का विकास करने के लिए काम कर रही है। इमरजेंसी की याद दिलाते हुए उन्होंने कांग्रेस पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि जनता ने कांग्रेस को नकार दिया है। उन्होंने अकलियत समाज से आगामी लोकसभा में एकजुट होकर नीतीश कुमार का साथ देने की अपील किया।
नहीं दिखे विधायक अमरेंद्र पांडे
सम्मेलन को एमएलसी वीरेंद्र नारायण यादव, विधान पार्षद जावेद इकबाल अंसारी, विधायक रामसेवक सिंह, पूर्व विधायक मंजीत कुमार सिंह, आसमां परवीन, शमशाद साईं ने भी संबोधित किया। सम्मेलन में जदयू जिलाध्यक्ष प्रमोद कुमार पटेल, मोहम्मद फैज सहित काफी संख्या में लोग मौजूद रहे। लेकिन कुचायकोट के विधायक अमरेंद्र पांडे इस कार्यक्रम में नहीं दिखे. ज्ञात हो कि पिछले दिनों बैकुंठपुर में भी आयोजित मुख्यमंत्री के कार्यक्रम में भी विधायक अमरेंद्र पांडे नहीं दिखे थे.






Related News

  • जनता की अदालत में लोकतंत्र, वोटर बना राजा
  • इसलिए ब्राह्मण-भूमिहार की पार्टी में चल रहा है ‘बनिया राज’
  • प्रशांत ने ‘फेंका’ सीट बंटवारे का फार्मूला, भाजपा को बताई औकात
  • बिहार विधानसभा के सेंट्रल हॉल में गरिमा गई पानी मै!
  • झंझारपुर से अब यंग लीडरशिप चाहती है पब्लिक, संतोष कुमार के लिए जबरदस्त लॉबिंग
  • आखिर नीतीश के ‘सपने’ के पास पहुंच ही गये सुशील
  • बिहार में आरजेडी 20 और कांग्रेस 10 सीटों पर लड़ सकती है लोकसभा चुनाव
  • क्या लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का विजय रथ रोकेंगी ये तीन देवियां!
  • Comments are Closed

    Share
    Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com