बिहार भाजपा अध्यक्ष ने जोश में दिया था हाथ काटने का बयान, चारो ओर थू थू हुई तो मांगी माफी

पटना. बिहार बीजेपी के अध्यक्ष और उजियारपुर से लोकसभा सांसद नित्यानंद राय ने सोमवार को एक विवादित बयान दिया था, जिसके बाद उन्होंने इस बयान पर माफी मांगी है और कहा कि मैंने मुहावरे का प्रयोग किया था, जिसे लोगों ने गलत रूप में लिया है। ज्ञात हो कि सोमवार को पटना मेें आयोजित कार्यक्रम में बिहार भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय ने कहा कि, “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कठिन परिस्थितियों से निकलकर देश का नेतृत्व कर रहे हैं। ये हमारे लिए गर्व की बात है। यदि उन पर कोई उंगली उठाएगा तो उसका हाथ काट देंगे।” पीएम मोदी की अब तक की यात्रा को याद करते हुए बिहार बीजेपी अध्यक्ष ने कहा, ‘जिनकी मां खाना परोसती थी और नरेंद्र मोदी को खाना खिलाने बैठी थी, उस थाली में मां को ना बेटा और बेटे को ना मां दिखाई देती थी। आज उस परिस्थिति से ऊपर गरीब का बेटा पीएम बना है। उसका स्वाभिमान होना चाहिए। एक-एक व्यक्ति को इसकी इज्जत करनी चाहिए।’ उन्होंने कहा, ‘उनकी ओर (पीएम मोदी) उठने वाली उंगली को, उठने वाले हाथ को…हम सब मिलके या तो तोड़ देंगे, जरूरत पड़ी तो काट देंगे।’ इस कार्यक्रम के दौरान बिहार के उपमुख्यमंत्री और उनकी पार्टी के वरिष्ठ नेता सुशील मोदी भी मंच पर मौजूद थे।
बाद में माफी मांगी, कहा-मेरे कहने का तात्पर्य एेसा नहीं था
बयान को लेकर नित्यानंद राय से मीडिया ने जब सवाल पूछे तो उन्होंने सफाई देते हुए कहा कि, “मैंने हाथ काटने वाली बात एक मुहावरे के रूप में कही थी। इसे विपक्षी पार्टी और आम आदमी से जोड़ कर नहीं देखा जाए।मोदी के संघर्ष पर सवाल उठाना गलत है।” उन्होंने अपने बयान पर खेद व्यक्त करते हुए कहा कि अगर मेरी बात से किसी को तकलीफ हुई हो तो मैं खेद व्यक्त करता हूं।
लालू प्रसाद ने कहा- गर्व करने लायक है क्या

फ़ाइल फ़ोटो

राय के बयान के बाद आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने बीजेपी पर तीखा वार किया। उन्होंने कहा कि, “बीजेपी किस बात पर गर्व कर रही है, उनके पास गर्व करने लायक कुछ भी नहीं है।”
जदयू ने कहा- संदर्भ को समझना चाहिए, विवाद ठीक नहीं
जदयू नेता नीरज कुमार ने कहा कि नित्यानंद राय जी ने जो भी कहा, उसका संदर्भ समझना चाहिए, पीएम मोदी पर हर किसी को गर्व है। जिस संदर्भ में भी उन्होंने जो कहा, उसका गलत मतलब निकालना उचित नहीं और जब उन्होंने माफी मांग ली है तो बात का पटाक्षेप हो जाता है, अब विवाद कैसा?
2016 में नित्यानंद ने बीजेपी अध्यक्ष का पदभार संभाला था
बता दें कि वैशाली के प्रभावशाली नेता राय ने दिसंबर 2016 में बीजेपी अध्यक्ष का पदभार संभाला था। वह हाजीपुर से विधायक भी रहे हैं। इसी कार्यक्रम में सुशील मोदी ने आरजेडी की आलोचना की और कहा कि उसने कानू समुदाय के लोगों को एक भी टिकट नहीं दिया था।






Related News

  • चितौड़गढ़’ ध्वस्त करने की पटकथा लिख दी लालू यादव ने !
  • जदयू में कहार या भूमिहार को मिलेगा जहानाबाद 18 मार्च
  • एनडीए में सीट तय हुई है, उम्मीदवार नहीं
  • इस तरह भाजपा में एक गैंग के शिकार बनें जनकराम और ऐसे हुई डा सुमन की जदयू में एंट्री
  • इस बार महाचंदर के लिए नहीं लडे मांझी, शत्रु पाले में, हारे या जीते शहाबुद्दीन की बीवी होंगी सिवान की उम्मीदवार! कुछ नामों पर तेजस्वी का किंतु परंतु!
  • बिहार में कांग्रेस की 11 सीटों पर चेहरे लगभग तय, बस घोषणा है बाकी
  • जनकराम, ओमप्रकाश और दवेंद्र चौधरी को मिला सरकार बनने के बाद सुनहरे भविष्य का लॉलीपॉप
  • अन्याय के खिलाफ चुप्पी साधने वाले जनकराम, ओमप्रकाश और वीरेंद्र को भाजपा ने किया टिकट से बेदखल!
  • Share
    Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com