Darbhanga

 
 

अपनी ही रियासत में चुनाव हार गये थे दरभंगा महाराज, 2019 में क्या होगा?

वीरेंद्र यादव के साथ लोकसभा का रणक्षेत्र – 25 (बिहार की राजनीति की सबसे जरूरी पुस्तक- राजनीति की जाति) बिहार की प्रमुख रियासतों में एक था दरभंगा राज। संभवत: सबसे बड़ी रियासत। दरभंगा के महाराजा कामेश्वर सिंह संविधान सभा के सदस्य भी थे। संविधान को अंतिम रूप में उनकी बड़ी भूमिका था। लेकिन इससे भी बड़ा तथ्य यह है कि महाराज कामेश्वर सिंह अपनी की रियासत के तहत आने वाले दरभंगा नार्थ से 1952 में लोकसभा चुनाव हार गये थे। 1952 में दरभंगा के नाम से चार लोकसभा सीट थी।Read More


जब जोधाबाई के कहने पर अकबर ने दरभंगा में लगाया था आम का बगीचा

पुष्य मित्र  आम का सीजन उफान पर है. इस साल भरपूर आम बाजार में उपलब्ध है, कीमत भी कम है, लिहाजा पूरा हिंदुस्तान खुलकर आम के रस में सराबोर हो रहा है. वह फलों का राजा आम जो दुनिया भर में भारत के फल के तौर पर जाना जाता है, क्या आप जानते हैं कि बिहार के दरभंगा शहर को कैपिटल ऑफ मैंगो कहा जाता रहा है. तो आइये आम के इस मौसम में मिथिला के इलाके में शहंशाह अकबर के बगीचों की कहानी जानते हैं. वैसे तो भारत में आमRead More


Share
Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com