इस्तीफा देकर क्या बोले मोदी के मंत्री- उमा भारती, राजीव रूडी, संजीव बालयान, फग्गन सिंह कुलस्ते.

इस्तीफा देकर क्या बोले मोदी के मंत्री-  उमा भारती, राजीव रूडी, संजीव बालयान, फग्गन सिंह कुलस्ते.
नई दिल्ली. मोदी के मंत्रिमंडल का विस्तार रविवार सुबह 10 बजे होगा. माना जा रहा है कि यह इस कार्यकाल का आखिरी विस्तार होगा. इससे पहले, बीजेपी के कई मंत्रियों ने गुरुवार को इस्तीफा दे दिया था. सूत्रों के हवाले से खबर है कि जिन नेताओं ने इस्तीफा दिया है, उनमें से अधिकतर की परफॉर्मेंस से पार्टी आलाकमान खुश नहीं था. इस बारे में जब इस्तीफा देने वाले नेताओं से पूछा गया तो उन्होंने कुछ भी साफ बताने से इनकार कर दिया. अटकलें हैं कि केंद्रीय जल संसाधन मंत्री उमा भारती ने स्वास्थ्य कारणों से इस्तीफे की पेशकश की है. हालांकि, इस बारे में जब उनसे पूछा गया तो उन्होंने साफ-साफ कुछ भी कहने से इनकार कर दिया. बात में उन्होंने कहा, मैंने ये सवाल सुना ही नहीं, इस संबंध में मुझे कुछ नहीं कहना. उमा ने बाद में ट्विटर पर लिखा, कल से चल रही मेरे इस्तीफे के खबरों पर मीडिया ने प्रतिक्रिया पूछी. इसपे मैंने कहा कि मैंने ये सवाल सुना ही नहीं, न सुनूंगी, न जवाब दूंगी. इस बारे में या तो राष्ट्रीय अध्यक्ष जी अमित शाह या अध्यक्ष जी जिसको नामित करें, वही बोल सकता है. मेरा इसपर बोलने का अधिकार नही हैं. कल से चल रही मेरे इस्तीफे के खबरों पर मीडिया ने प्रतिक्रिया पूछी. इसपे मैंने कहा कि मैंने ये सवाल सुना ही नहीं, न सुनूंगी, न जवाब दूंगी. इस बारे में या तो राष्ट्रीय अध्यक्ष जी जिसको नामित करे, वही बोल सकते है. मेरा इसपर बोलने का अधिकार नही है.
पश्चिमी यूपी के कद्दावर बीजेपी नेता संजीव बालयान से जब उनके इस्तीफे के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, इस्तीफा मांगा गया, मैंने दे दिया. अब सारा समय यूपी में पार्टी का प्रचार करूंगा. बालयान ने कहा कि उन्हें बस इस्तीफा देने कहा गया और उन्होंने तुरंत इस्तीफा दे दिया. वहीं, राजीव प्रताप रूडी ने कहा कि इस्तीफे का फैसला पार्टी का है.
उन्होंने कहा, यह पीएम, सरकार और पार्टी का फैसला है. हम पार्टी के सिपाही हैं. इसके पीछे कोई रणनीति नहीं. मैं शुक्रगुजार हूं कि मुझे पार्टी के साथ काम करने का मौका मिला और आगे भी काम करता रहूंगा. यह पीएम और पार्टी का विशेषाधिकार है. वहीं, इस्तीफा देने वाले एक अन्य मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते ने कहा कि वह पार्टी के जिम्मेदार सदस्य हैं, पार्टी के फैसले का पालन करेंगे. with thanks from nbt






Related News

  • छत्तीसगढ़, गुजरात और झारखंड ने मुख्यमंत्री राहत कोष में दिये पांच-पांच करोड़
  • बिहार की राजनीति में कौन है ‘कांग्रेस का विभिषण’
  • डाक्टरों ने बच्चे के पेट में कैंची छोड़ा, पांच साल बाद दोबारा ऑपरेशन के बाद मौत
  • एक किलो चीनी पर खर्च होता है 2000 लीटर पानी
  • बाढ़ से रूका समस्तीपुर-दरभंगा रेलखंड पर ट्रेनों का परिचालन शुरू
  • बिहार में आडवाणी का रथ रोकने वाले पूर्व नौकरशाह अब मौदी के कैबिनेट में
  • इलाज के दौरान मरीज भले मर जाए, रेफर करने वाले का कमीशन नहीं मरेगा!
  • इस्तीफा देकर क्या बोले मोदी के मंत्री- उमा भारती, राजीव रूडी, संजीव बालयान, फग्गन सिंह कुलस्ते.
  • Comments are Closed