लालू की चेतावनी : ऐतिहासिक भूल न करें नीतीश, बिहार की बेटी का करें समर्थन

नई दिल्ली. राष्ट्रपति चुनाव में विपक्ष की ओर से साझा उम्मीदवार के तौर पर मीरा कुमार के नाम के ऐलान के बाद शुक्रवार आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने बिहार के सीएम नीतीश कुमार से मीरा को समर्थन देने की अपील की है। मीरा को बिहार की बेटी बताते हुए उन्होंने कहा कि नीतीश ‘ऐतिहासिक भूल’ कर रहे हैं। लालू ने नीतीश पर तंज कसते हुए यह भी कह डाला कि समर्थन का फैसला सज्जनता या दुर्जनता के आधार पर नहीं, बल्कि विचारधारा के हिसाब से किया जाता है। 17 विपक्षी दलों की बैठक के बाद मीडिया से बातचीत में लालू ने इशारों में नीतीश को निशाने पर लिया। उन्होंने कहा, ‘आपको याद होगा कि राष्ट्रपति चुनाव के लिए पहले नीतीश जी की पार्टी के शरद यादव जी ने कहा था कि जो सब लोगों की राय होगी, हम साथ रहेंगे…फिर दो मीटिंग भी हो गई। बीच में पता नहीं फिर क्या हुआ.
नीतीश द्वारा रामनाथ कोविंद को समर्थन देने के लिए बताई गई वजह पर भी लालू ने कटाक्ष किया। उन्होंने कहा, ‘नीतीश जी ने कहा कि बहुत सज्जन और अच्छे राज्यपाल रहे हैं तो हमने व्यक्ति को समर्थन देने का फैसला लिया है। व्यक्ति की सुंदरता, सज्जनता या दुर्जनता पर फैसला नहीं होता। हम विचारधारा से समझौता नहीं करेंगे। कांग्रेस भी अगर बोलती कि बीजेपी का समर्थन करो तो नहीं करते।’
हाल में लालू के परिवार के खिलाफ कथित बेनामी संपत्ति को लेकर की गई कार्रवाई को लेकर भी लालू इशारों में काफी कुछ कह गए। उन्होंने कहा, ‘हम फासिस्ट ताकतों के खिलाफ जमा हुए हैं। यह विचारधारा की लड़ाई है। हम लोगों को सरेंडर कराने के लिए ये लोग क्या-क्या कर रहे हैं, यह तो जानते ही हैं आप।’
लालू ने इस दौरान यह भी साफ कर दिया कि बिहार में महागठबंधन की सरकार को कोई खतरा नहीं है। नीतीश के ‘धोखे’ के सवाल पर लालू ने कहा, ‘नीतीश ने धोखा दिया कि नहीं, नीतीश जानें। सरकार हमारी है और चलती रहेगी। आज भी अपील करता हूं कि ऐतिहासिक भूल नहीं करनी चाहिए। 17 पार्टियां है, नीतीश नहीं आए तो अजित सिंह आ गए।’c´fªfe ªfe aQû d°f½fCX QaABXeÔ°faªfªf´fCX¸fZ






Related News

  • सीवान-गोपालगंज को छोड़ बिहार के 18 शहरों को मॉडल शहर के रुप में विकसित करने की योजना
  • लालू की चेतावनी : ऐतिहासिक भूल न करें नीतीश, बिहार की बेटी का करें समर्थन
  • अब बिहार में इंटर पास ही बन पाएंगे होमगार्ड
  • चंपारण आंदोलन के सौ साल : तब-अब का बिहार कैसी
  • गंगा से निकल रहा है ‘सोना’, लूटने के लिए बहा रहे हैं खून!
  • कहानी सीवान के छोटे से गाँव रजनपुरा के एक कर्न्तिकारी युवा आशुतोष की
  • TEST POST
  • जानिए दुनिया के सबसे बड़े बिहार के सोनपुर मेले के शुरू होने की कहानी
  • Comments are Closed