गरीब मरीजों के लिए बेहद सहायक हैं जनऔषधि केंद्र

• कोलकातावासियों को एक और जनऔषधि केन्द्र की सौगात, अब तक खुल चुके हैं प.बंगाल में 95 जनऔषधि केन्द्र
• यात्री दल पहुंचे काशीपुर में श्री सनातन धर्म विद्यालय, दिया स्वस्थ भारत यात्रा का संदेश
• यात्री दल ने दक्षिणेश्वर में की पूजा-अर्चना
• 21000 किमी की यात्रा पर निकले हैं यात्री, अभी तक तय कर चुके हैं 8 हजार किमी
• दक्षिण भारत सहित 12 राज्यों के बाद किया प. बंगाल का दौरा

कोलकाता। ओडिशा के कटक से चलकर पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता पहुंचने पर स्वस्थ भारत यात्रियों का स्थानीय निवासियों ने स्वागत सम्मान किया। यात्रियों ने कोलकाता में सबसे पहले दक्षिणेश्वर मंदिर पहुंचकर पूजा-अर्चना की और भारत के स्वस्थ होने की कामना की। महानगर में विभिन्न जनऔषधि केंद्रों का जायजा लिया और एक नए केंद्र का उद्घाटन किया। काशीपुर स्थित एक विद्यालय के विद्यार्थियो को जनऔषधि के महत्व और स्वस्थ रहने के उपायों से अवगत कराया और एक अन्य जन सभा को भी संबोधित किया। स्वस्थ भारत यात्रियों में देश के प्रत्येक पंचायत में एक जनऔषधि केन्द्र खोलने की जरूरत बताई।
एक माह पूर्व 30 जनवरी को अहमदाबाद स्थित महात्मा गांधी के साबरमती आश्रम से वरिष्ठ स्वास्थ्यकर्मी आशुतोष कुमार सिंह के नेतृत्व में निकली स्वस्थ भारत यात्रा-2 पश्चिम बंगाल पहुंची है। उनके साथ इस यात्रा में वरिष्ठ पत्रकार और गांधीवादी चिंतक प्रसून लतांत, प्रियंका सिंह, शंभू कुमार, विवेक शर्मा, विनोद रोहिल्ला, और पवन कुमार शामिल हैं।
स्वस्थ भारत यात्रा प्रमुख आशुतोष कुमार सिंह ने दक्षिण कोलकाता के बाघाजतिन क्षेत्र में एक नए जनऔषधि केन्द्र का उद्घाटन करते हुए कहा कि उनकी स्वस्थ भारत यात्रा जनऔषधि का मात्र प्रचार अभियान नहीं है बल्कि आर्थिक रूप से कमजोर लोगों के हक में एक सामाजिक आंदोलन है। लगातार महंगी होती दवाइयों और उपचार के कारण तबाह होते लोगों की दयनीय दशाओं का जिक्र करते हुए श्री आशुतोष ने कहा कि गांधी जी ने भी यही कहा था कि सबसे पहले समाज के अंतिम व्यक्ति के हित में पहल करनी चाहिए। इस मौके पर प्रसून लतांत ने स्वस्थ भारत यात्रा की सार्थकता को उजागर करते हुए कहा कि देश में बहुत से मुद्दों पर आंदोलन और अभियान चलते रहते हैं लेकिन स्वास्थ्य के मुद्दे पर कोई राष्ट्रव्यापी अभियान नहीं चलता। बदलते जलवायु और बदलती जीवनशैली के कारण लोगों के लिए दवाइयां एक जरूरत बन गई हैं पर ज्यादातर लोग दवाइयों के मामले में अनजान ही हैं। ऐसे में स्वस्थ भारत यात्रा के जरिए उनके लिए एक महत्वपूर्ण कार्य को अंजाम दिया जा रहा है। इसमें देश भर के लोगों को सहयोग देना चाहिए। स्वस्थ भारत यात्रियों का स्वागत करते हुए शहर के जाने-माने इएनटी सर्जन डॉ.विकास सिंह ने कहा कि आशुतोष कुमार सिंह के नेतृत्व में देशव्यापी यह यात्रा सभी के लिए प्रेरणादायक है।
प.बंगाल में जनऔषधि केन्द्रों के बारे में विस्तार से जानकारी देते हुए बीपीपीआई के जोनल मैनेजर आशीष चक्रवर्ती ने कहा कि अबतक प. बंगाल में 95 केन्द्र हैं लेकिन हमारा लक्ष्य जल्द से जल्द 900 केन्द्र खोलने का है। उन्होंने कहा कि हमारी कोशिश है कि यह जनऔषधि केन्द्र ज्यादातर उन क्षेत्रों में खुले जहां गरीब लोगों की आबादी अधिक है। इस अवसर पर अनिर्बन रॉय, अर्नब हलदर, प्रसनजीत दत्त, संजय घोष, मो. इलियास, महुआ हलदर सहित दर्जनों पीएमबीजेके संचालक मौजूद थे।
स्वस्थ भारत (न्यास) द्वारा आयोजित इस यात्रा को प्रधानमंत्री भारतीय जनऔषधि परियोजना, आयुष्मान भारत सहित कई शैक्षणिक संस्थानों एवं गैर-सरकारी संस्थाओं का सहयोग एवं समर्थन प्राप्त है। राज्य सभा के उपसभापति हरिवंश जी, पुदुचेरी की उपराज्यपाल किरण बेदी, तमिलनाडु के राज्यपाल बनवारी लाल पुरोहित सहित तमाम नामचीन हस्तियों ने इस अभियान के लिए अपनी शुभकामनाएं प्रेषित कर इसकी महत्ता को उजागर किया है। 90 दिनों की इस यात्रा में अब तक यात्री दल लगभग 8000 किमी की दूरी तय कर 13 राज्यों का दौरा कर चुके हैं।






Related News

  • ममता दीदी के बंगाल में लॉटरी एडिक्शन क्यों नहीं बनता चुनावी मुद्दा
  • गरीब मरीजों के लिए बेहद सहायक हैं जनऔषधि केन्द्रः
  • न उद्योग, न धंधा, फिर क्यों दुनिया का सातवां सबसे प्रदूषित शहर है पटना?
  • गरीब मरीजों के लिए बेहद सहायक हैं जनऔषधि केंद्र
  • कुशीनगर बौद्ध उत्सव में दिखा हथुआ महाराज का जलवा
  • स्कूली शिक्षा में यूपी, बिहार, झारखंड सबसे खराब ग्रेड में
  • सेवाग्राम में स्वस्थ भारत यात्रा-2 का हुआ पहला चरण पूरा
  • बिहार : रेल टिकट में चमत्कार : जो ट्रेन चल ही नहीं रही, उसी में दे दिया कन्फर्म टिकट
  • Comments are Closed

    Share
    Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com