इसलिए होती है मंत्री पद के लिए ‘मारामारी’ -1

वीरेंद्र यादव
एक सामान्य विधायक और मंत्री में वेतन और भत्ता में कोई अंतर नहीं होता है। सुविधाओं और सरकारी संसाधनों के दोहन का अधिकार जरूर मंत्री को बढ़ जाता है। एक विधायक को 40 हजार रुपये वेतन के साथ 50 हजार क्षेत्रीय भत्ता और 10 हजार रुपये स्टेशनरी भत्ता मिलता है। इसके अलावा प्रतिदिन 2000 हजार के हिसाब से दैनिक भत्ता मिलता है। दैनिक भत्ता तभी मिलेगा, जब विधायक बिहार में हों। विधायक जितने दिन बिहार से बाहर होंगे, उतने दिनों का भत्ता नहीं मिलेगा। यदि कोई विधायक सोमवार को दिल्ली जाते हैं और मंगलवार को वापस लौट आते हैं, तब उनके दैनिक भत्ते में कटौती नहीं होगी।

हम मंत्रियों की बात कर रहे थे। मुख्यमंत्री और मंत्री को देय सुविधाओं में कोई ज्यादा अंतर नहीं होता है। कैबिनेट मंत्री का दर्जा प्राप्त व्यक्ति को भी कैबिनेट मंत्री के समान सुविधाएं मिलती हैं। मुख्यमंत्री को दो आप्त सचिव (पीएस), दो निजी सहायक, एक कनीय लिपिक और 4 आदेशपाल मिलते हैं। मुख्यमंत्री के दोनों पीएस बिहार प्रशासनिक सेवा के अधिकारी होते हैं। पीएस को छोड़कर सभी स्टाफ गैरसरकारी होते हैं। लगभग यही सुविधाएं मंत्रियों को भी देय हैं, लेकिन थोड़ा अंतर भी है। मंत्री को दो पीएस (निजी सचिव) मिलते हैं। इसमें एक बिहार प्रशासनिक सेवा के अधिकारी होते हैं, जबकि दूसरा मंत्री किसी भी व्यक्ति को उस पर नियुक्त कर सकता है। मंत्री को 2 निजी सहायक, एक कनीय लिपिक और 3 आदेशपाल मिलते हैं। ये सभी गैरसरकारी होते हैं। यानी इनकी नियुक्ति मंत्री अपनी पसंद से करते हैं। इन पदों पर नियुक्त गैरसरकारी स्टाफ का वेतन वही होता है, जो उस पद पर नियुक्त सरकारी कर्मचारी का होता है। अंतर इतना है कि सरकारी कर्मचारी का वेतन व भत्ता समय-समय पर बढ़ता है, लेकिन इसका लाभ निजी स्टाफ को नहीं मिलता है। नियुक्ति के वेतनमान पर ही उनकी ‘विदाई’ भी होती है।

BiharKatha.Com

मंत्री के निजी सचिव को एक-एक स्टाफ मिलता है, जिसे निजी सचिव अपनी इच्छा के अनुसार रख सकता है। मुख्यमंत्री या मंत्री के साथ नियुक्त उनके निजी स्टाफ मुख्यमंत्री या मंत्री के इस्तीफे के साथ ही पदमुक्त हो जाते हैं। निजी सचिव के रूप में नियुक्त सरकारी स्टाफ अपने मूल विभाग में लौट जाते हैं। यदि कोई व्यक्ति फिर से मंत्री बनता है तो उसे नये सिरे से स्टाफ को नियुक्त करना पड़ता है और उस दिन के अनुरूप वेतन व भत्ता निर्धारित होता है।





Related News

  • ममता दीदी के बंगाल में लॉटरी एडिक्शन क्यों नहीं बनता चुनावी मुद्दा
  • गरीब मरीजों के लिए बेहद सहायक हैं जनऔषधि केन्द्रः
  • न उद्योग, न धंधा, फिर क्यों दुनिया का सातवां सबसे प्रदूषित शहर है पटना?
  • गरीब मरीजों के लिए बेहद सहायक हैं जनऔषधि केंद्र
  • कुशीनगर बौद्ध उत्सव में दिखा हथुआ महाराज का जलवा
  • स्कूली शिक्षा में यूपी, बिहार, झारखंड सबसे खराब ग्रेड में
  • सेवाग्राम में स्वस्थ भारत यात्रा-2 का हुआ पहला चरण पूरा
  • बिहार : रेल टिकट में चमत्कार : जो ट्रेन चल ही नहीं रही, उसी में दे दिया कन्फर्म टिकट
  • Comments are Closed

    Share
    Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com