सावधान : बिहार में डी कंपनी की दस्तक, दाउद के भाई ने खोला राज, कई गुर्गो ने बनाया बिहार में ठिकाना

पटना. डी कंपनी के बदमाशों का बिहार कनेक्शन सामने आया है। आतंकियों की जमात के दो कुख्यातों का लोकेशन नेपाल सीमा पर स्थित राज्यों में इंडीकेट हो रहा है जिससे उत्तर प्रदेश और बिहार से लगने वाली नेपाल की खुली सीमा पर केंद्रीय खुफिया एजेंसियों की नजर है। सूत्रों की मानें तो बिहार में दोनों आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन खुफिया सर्च चल रहा है। नेपाल सीमा से लेकर अन्य शहरों में पूरी तरह से अलर्ट है। राज्य पुलिस मुख्यालय ने गत सप्ताह को बिहार के सभी जिलों और रेंज जोन के अफसरों के साथ वीडियो कांफ्रेसिंग कर सुरक्षा का निर्देश दिया है। हालांकि इस निर्देश में कही आतंकियों को लेकर कोई निर्देश नहीं है लेकिन सूत्रों का कहना है कि पूरे प्रदेश में अलर्ट का बड़ा कारण संदिग्धों के सर्च को लेकर है। अंडर व‌र्ल्ड के कुख्यात डॉन दाउद इब्राहीम के भाई इकबाल कासकर की गिरफ्तारी के बाद देश की बड़ी खुफिया एजेंसियों को कई अहम सुराग मिला है। सुराग हाथ आने के बाद डी कंपनी के गुर्गो की तलाश पूरे देश में तेज हो गई है। मुम्बई से लेकर नेपाल सीमा तक आतंकियों की तलाश की जा रही है। सूत्रों की मानें तो मुम्बई की क्राइम ब्रांच ने बिहार और उत्तर प्रदेश के संवेदनशील इलाकों में डेरा जमा दिया है। सूचना है कि डी कंपनी के कुछ गुर्गे अपना ठिकाना बनाए हैं। नेपाल सीमा से लेकर बिहार में चल रही खुफिया सर्च दाउद के भाई इकबाल की अरेस्टिंग के बाद शुरू हुई है। सूत्र तो ये भी बता रहे हैं कि मुम्बई क्राइम ब्रांच बिहार में सर्च कर डी कंपनी के दो शूटरों की तलाश कर रही है।
देश में चल रहा ऑपरेशन सर्च
डी कंपनी के दाउद इब्राहीम के छोटे भाई इकबाल कासकर को क्9 सितंबर को मुंबई पुलिस ने गिरफ्तार किया है। इस गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने जब पूछताछ की तो बड़ा खुलासा हुआ। इस मामले में इकबाल के अलावा ब् और लोगों की गिरफ्तारी हुई है। सूत्रों की मानें तो मुम्बई क्राइम ब्रांच की टीम को कासकर के दो शूटर शमीम और गुड्डू की तलाश है। उन्हें बिहार में नेपाल की खुली सीमा के आस पास कहीं गुप्त स्थान पर छिपे होने की सूचना है। सूत्रों की मानें तो प्रदेश में खुफिया तौर पर सर्च चल रहा है और जिला पुलिस को इसकी भनक तक नहीं लग रही है। सूत्र तो ये भी बताते हैं कि मुम्बई की क्राइम ब्रांच ने बिहार राज्य की खुफिया विंग्स से सहयोग मांगा है। एजेंसियों की कार्रवाई के बाद से डी कंपनी के गुर्गो की स्थान बदलने की चर्चा भी हो रही है। गया में छिपकर टीचर की नौकरी करने वाला तौसीफ भी आंतक की एक बड़ी कड़ी है। वह अहमदाबाद से लेकर देश में हुई कई बम विस्फोट में शामिल रहा है। वह आतंकियों का माडयूल तैयार कर रहा था। इस बड़े खुलासे में पुलिस ने दो को गिरफ्तार किया था। नाम बदल कर रहा तौसीफ देश को बड़ी चोट देने की मंशा पर काम कर रहा था। इसके अलावा बिहार पहले भी काफी संवेदनशील रहा है और नेपाल सीमा से सटे इस प्रदेश से अब तक दर्जनों आतंकियों की गिरफ्तारी हो चुकी है। कई बार यहां तबाही की कोशिश भी की गई है।





Related News

  • गोपालगंज समेत 17 जिलों में बढे 20 प्रतिशत क्राइम, बिहार का 60 प्रतिशत क्राइम इन्हीं जिलों में, सिवान में क्राइम कम
  • आय से अधिक संपत्ति मामले में छपरा के पूर्व डीएम दीपक आनंद के यहां छापे
  • नवादा : तीन साल के बच्चे को पिलाया भैंस के पाडा का खून, मौत
  • पटना : प्रेमिका को पाने के लिए बिहार के मंत्री से मांगी थी 10 लाख की रंगदारी
  • बिहार में एक मुस्लिम मंत्री से मांगी गई चौथी बार रंगदारी
  • गोपालगंज : पंजाब नेशनल बैंक से 11 लाख की लूट
  • बिहार में गैंगरेप के बाद पीडिता को ही बताया चरित्रहीन, मुंह पर पोता चूना कालिख
  • प्यार में धोखा दे रचा खुद के किडनैप का नाटक, जानिए 20 साल बाद कैसे पकडाया
  • Comments are Closed

    Share
    Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com