गोपालगंज : अस्पताल में नहीं है सुविधा यहां मरीज कर दिए जाते हैं रेफर

भोरे (गोपालगंज)

भोरे रेफरल अस्पताल में साफ सफाई भी है तथा यहां तैनात चिकित्सक और कर्मियों मरीजों को कोई परेशानी न हो इसके लिए तत्पर भी रहते हैं। लेकिन चिकित्सकों की इस तत्परता के बावजूद इस अस्पताल में आने वाले मरीजों का इलाज नहीं हो पाता है। अधिकांश मरीजों को यहां से रेफर कर दिया जाता है। इस अस्पताल में चिकित्सकों से लेकर स्वास्थ्य कर्मियों की भारी कमी मरीजों के परेशानी का कारण बनी हुई है। जिसके कारण मरीज यहां इलाज कराने आते हैं और उनका प्राथमिक उपचार करने के बाद रेफर कर देना चिकित्सकों की मजबूरी बन जाती है। चिकित्सकों की कमी के साथ ही इस अस्पताल में मौजूद संसाधन भी मरीजों के काम नहीं आ रहे हैं। डायग्लोसिस सेंटर बंद पड़ा हुआ तथा जरूरत के अनुसार मरीजों को दवाइयां भी नहीं मिल पाती हैं। भोरे रेफरल अस्पताल में भोरे सहित विजयीपुर के भी मरीज अपना इलाज कराने आते हैं। इस अस्पताल में मरीजों की हमेशा भीड़ लगी रहती हैं। मरीजों की इस भीड़ के बीच चिकित्सकों की भारी कमी इलाज पर भारी पड़ती है। इस अस्पताल में स्वीकृत पद से आधे से अधिक कम चिकित्सक तैनात हैं। यही हाल स्वास्थ्य कमियों का भी है। चिकित्सक तथा स्वास्थ्य कर्मियों की कमी से यहां आने वाले मरीजों को रेफर करने में ही भलाई समझी जाती है। आलम यह है कि मरीजों को भर्ती नहीं किए जाने से इस अस्पताल के वार्ड अक्सर खाली पड़े रहते हैं। परिवार नियोजन आपरेशन कराने आने वाली महिलाएं ही यहां भर्ती की जाती हैं। स्थानीय लोग बताते हैं कि सभी संसाधन मौजूद होने के बाद भी यहां मरीजों का इलाज नहीं हो पाता है।
रेफरल अस्पताल में मरीजों का इलाज नहीं हो पाता है। मरीजों का प्राथमिक उपचार करने के बाद रेफर कर दिया जाता है। चिकित्सकों की कमी मरीजों पर भारी पड़ रही है।

** शत्रुध्न प्रसाद का कहना है कि लगता है यह रेफरल अस्पताल मरीजों को दूसरी जगह रेफर करने के लिए ही बनाया गया है। सभी संधान मौजूद होने के बाद भी यहां मरीजों का इलाज नहीं हो पाता है।

** अशोक कुमार का कहना है कि यहां इलाज के नाम पर मरीजों के साथ खिलवाड़ किया जाता है। मरीज यहां आते हैं और उनके आने के साथ ही उन्हें रेफर कर दिया जाता है। इस अस्पताल में चिकित्सकों की संख्या बढ़ाई जानी चाहिए।

** विवेक कुमार का कहना है कि इस अस्पताल की तरफ स्वास्थ्य महकमा ध्यान नहीं दे रहा है। चिकित्सकों तथा स्वास्थ्य कर्मियों की भारी कमी है। जिसके कारण मरीजों का ठीक से इलाज नहीं हो पाता है। उन्हें रेफर कर दिया जाता है।

** विनोद कुमार का कहना है कि डॉ.मद्देश्वर प्रसाद शर्मा ने बताया की रेफरल अस्पताल भोरे में संसाधन बढ़ाने के साथ ही चिकित्सक तथा कर्मियों की कमी दूर करने का प्रयास किया जा रहा है। शीघ्र की इस अस्पताल में और चिकित्सकों की प्रतिनियुक्ति की जाएगी। मरीजों का बेहतर ढंग से इलाज हो इसके प्रति विभाग सजग है।






Related News

  • सिवान : भाजयुमो ने आयोजीत किया रक्तदान शिविर
  • सिवान : 31 जुलाई तक प्रखण्डो मे लगेगा विशेष आधार कैम्प
  • शादी के बाद दहेज का बकाया नहीं मिला तो गला घोंट कर पेड़ से लटकाया!
  • सिवान : सी.एस.ने किया पीएचसी का निरिक्षण
  • सिवान : जलालपुर मठिया गांव में डकैतों ने मचाया तांडव
  • गोपालगंज : पंचदेवरी में रेलवे हाल्ट तैयार, अब ट्रेन का इंतजार
  • गोपालगंज : पंचदेवरी में शिक्षकों के समंजन पर विभाग मौन
  • वैशाली में ऑटो और बस के बीच टक्कर में 11 की मौत , छह घायल
  • Comments are Closed