यहां सिर्फ 11 रुपए की फीस में आईएएस बनना पक्का!

नवनीत मिश्र
नई दिल्ली: वर्ष 2002 की बात है। एक लड़का आता है पटना के गुरु रहमान के पास। कहता है- सर, मेरे पापा इस दुनिया में नहीं हैं। दो जून की रोटी किसी तरह से परिवार को नसीब होती है। कोचिंग करने के पैसे नहीं है। क्या आप कॉम्पटीशन की तैयारी में कुछ गाइडेंस दे सकते हैं। मुझे पता है कि आप कई कॉम्पटीशन देकर सफल हो चुके हैं, इस नाते आप बेहतर मार्गदर्शन कर सकते हैं।
सादिक आलम नामके इस छात्र ने जब कुछ इस तरह विनती की तो रहमान को लगा कि इस लड़के का मार्गदर्शन जरूर करना चाहिए। क्योंकि बातचीत से ही लग रहा कि लड़का बहुत मेधावी है। रहमान ने कहा कि-तुम सिर्फ 11 रुपये की फीस दो, हम सिविल सर्विसेज की पूरी कोचिंग देंगे। रहमान ने छात्र को गाइडेंस देनी शुरू कर दी। और बाद में वही लड़का आइएएस बन गया। आज सादिकेआलम नामक वह लड़का आज ओडिशा के नौपाड़ा जिले का डीएम है।
जी हां, बात हो रही है, उस गुरु रहमान की, जो कि सादिकेआलम जैसे तमाम गरीब बच्चों को महज 11 रुपये फीस लेकर अफसर बनाने का मिशन चला रखे हैं। रहमान पहले बातचीच करते हैं। अगर लड़का मेधावी है और वाकई में घऱ की माली हालत खराब मिलती है तो उसे क्षमता के हिसाब से सिर्फ 11 से सौ रुपये फीस देने को ही कहते हैं।
रहमान से कहते हैं कि बातचीत से ही लग जाता है कि कौन लड़का मेधावी है और कम फीस में कोचिंग का जरूरतमंद है। अब तक उन्हें किसी विद्यार्थी ने गुमराह नहीं किया है। जो छात्र किसी प्रतियोगी परीक्षा में सफल होकल निकलते हैं तो वे बाद में कोचिंग को आर्थिक सहयोग खुशी-खुशी देते हैं
बिहार के पुर्णिया जिले की रहने वालीं मीनू कुमारी की भी भेंट रहमान से हुई। माली हालत अच्छी न होने के कारण रहमान ने उनसे भी सिर्फ 11 रपये की फीस ली। और आज मीनू कुमारी भी आईपीएस हैं। गुरु रहमान क्लासेज से पढ़कर अब तक 60 छात्र-छात्राएं आइपीएस बन चुके हैं तो पांच स्टूडेंट आईएएस। इसमें सभी की पारिवारिक हालत खराब रही। जिन्हें महज 11 से सौ रुपये की फीस में ही रहमान ने कोचिंग देकर अफसर बना दिया। रहमान की कोचिंग से ही पढ़कर 2010 में संजीव कुमार आइएएस हुए। इनका परिवार दाने-दाने को मोहताज था। मगर रहमान के संपर्क में आते ही किस्मत बदल गई। 2009 में रहमान के शिष्य गुड्डू कुमार आइआरएस बने।
यूं हुई कोचिंग की शुरुआत
वर्ष 1994 का वक्त। रहमान कहते हैं कि पुलिस इंस्पेक्टर का बेटा होने के कारण वह आइपीएस बनना चाहते थे। कई प्रतियोगी परीक्षाओं में बैठे। सफल भी हुए। मगर उन्होंने प्रतियोगी छात्रों को कोचिंग देनी शुरू की। उस वक्त बिहार में चार हजार सब इंस्पेक्टर्स पदों की भर्ती के लिए विज्ञापन निकला था। जब रिजल्ट आया तो रहमान स्टार बन गए। वजह कि उनकी कोचिंग से पढ़े 1100 छात्रों ने प्रतियोगी परीक्षा में बाजी मारते हुए सब इंस्पेक्टर्स हो गए।
जाहिर सी बात है कि चार हजार मे से किसी कोचिंग के 1100 लड़के अगर सलेक्ट होंगे तो नेम-फेम चमकना लाजिमी है। पहले मध्यम दर्जे की प्रतियोगी परीक्षाओं की ही रहमान तैयारी करते रहे। मगर जब गाइडेंस लेकर 2002 में छात्र सादिकेआलम आइएएस बन गए तो रहमान के पास खुशी का ठिकाना नहीं रहा। फिर रहमान ने सिविल सर्विस की कोचिंग भी देनी शुरू कर दी। पटना के गोपाल मार्केट स्थित रहमान की कोचिंग अदम्य अदिति गुरुकुल में इस वक्त दो हजार से ज्यादा छात्र यूपीएसससी, एसससी, बीपीएससी व अन्य क्लर्किल जॉब्स की कोचिंग ले रहे हैं।
रहमान की लवस्टोरी है फिल्मी
जब रहमान ने बीएचयू में प्राचीन इतिहास एवं संस्कृति विषय से टॉप किया तो साथ पढ़ने वालीं अमिता प्रभावित हुईं। दोनों एक दूसरे से मिलना शुरू किए। दोस्ती कुछ समय बाद में प्यार में बदल गई। रहमान कहते हैं कि वह वक्त कुछ और था। हिंदू-मुस्लिम लड़की और लड़के की शादी होना रेत से तेल निकालने जैसा था।
रहमान कहते हैं कि हमने शादी करने का फैसला लिया तो परिवार वाले विरोध पर उतर आए। परिवार को नजरअंदाज कर हमने मंदिर में शादी रचाई। इस पर हम दोनों को सामाजिक बहिष्कार झेलना पड़ा। रहमान कहते हैं कि हमने तय किया था कि शादी के बाद भी हममें से कोई धर्म बदलने को मजबूर नहीं होगा। आज हमारे दोनों बच्चों के हिंदू नाम हैं-अदम्य अदिति और अभिज्ञान अरिजित है।
सामाजिक जागरूकता भी फैला रहे रहमान के स्टूडेंट
प्राचीन इतिहास, मॉर्डन हिस्ट्री और ग्रामीण विकास विषय में एमए रहमान कुमार दो विषयों से पीएचडी हैं। फिलहाल कोचिंग में दो हजार विद्यार्थी पढ़ रहे हैं। खास बात है कि इतनी बड़ी टीम के साथ रहमान सामाजिक जागरूकता कार्यक्रम भी करते हैं। ताकि समाज का भी भला हो सके। उनके एक स्टूडेंट अनुराग चंद्रा ने तो ट्राईसाइकिल से दिल्ली से लेह तक की यात्रा इसी मकसद से की। रहमान की शोहरत के कारण अब बिहार नहीं बल्कि यूपी, मध्य प्रदेश, उत्तराखंड, झारखंड, छत्तीसगढ़, ओडिसा आदि राज्यों के विद्यार्थी कोचिंग के लिए आते हैं। with thanks from http://www.hindi.indiasamvad.co.in






Related News

  • लालू पर सीबीआई की नकेल कसने वाला अफसर अस्थाना नेतरहाट के रहे हैं विद्यार्थी
  • मत कराइए बिहार में इलाज, यहां लोग रोज खा रहे तीन करोड़ की नकली दवाएं!
  • यहां सिर्फ 11 रुपए की फीस में आईएएस बनना पक्का!
  • एक सरकारी विद्यालय और एक शिक्षक भिखारी महतो जैसा भी!
  • राष्ट्रपति चुनाव : राजेंद्र बाबू ने पाया था 99 प्रतिशत वोट, टूट नहीं पाएगा उनका रिकार्ड
  • बिहार में एक मुट्ठी चावल से जिंदगी संवार रहीं महिलायें
  • बिहार में अंडा बेचने वाले के बेटे अरबाज ने जेईई एडवांस में पाई 67वीं रैंक
  • विश्व पर्यावरण दिवस : विषैली गैसें गर्म तापमान में सूर्य की किरणों से बने ‘कॉकटेल’ आजोन का खतरा
  • Comments are Closed