Social Media

 
 

चौरी-चौरा: एक बहुजन बगावत, जिससे गांधी घबरा उठे थे!

चौरी-चौरा गरीबों और निम्नवर्णीय किसानों-मजदूरों का विद्रोह था, जिसके निशाने पर अंग्रेज बेशक थे, लेकिन ये विद्रोह गांधी और कांग्रेस की जमींदारपरस्त नीतियों के खिलाफ भी था. सिद्धार्थ  4 फरवरी 1922 की चौरी-चौरा की घटना न केवल भारतीय इतिहास, बल्कि विश्व इतिहास की महत्वपूर्ण घटना है. चौरी-चौरा के डुमरी खुर्द के लाल मुहम्मद, बिकरम अहीर, नजर अली, भगवान अहीर और अब्दुल्ला के नेतृत्व में किसानों ने ज़मींदारों और ब्रिटिश सत्ता के प्रतीक चौरी-चौरा थाने को फूंक दिया. इसमें अंग्रेज़ी सरकार के 23 सिपाही मारे गए.आधुनिक भारत का इतिहास चौरी-चौरा केRead More


ज्यादा बुरा कौन? फेक वेबसाइट्स या चैनल-अखबार?

बेहतर क्या? बल्कि ज्यादा बुरा कौन? फेक वेबसाइट्स या चैनल-अखबार? बहुजनों, एससी-एसटी-ओबीसी-माइनॉरिटी के लिए क्या फेक न्यूज और क्या असली न्यूज. जैसे फेक वेब साइट वैसे ही चैनल और अखबार. दोनों ब्राह्मण-बनियों के कंट्रोल में हैं. फेक न्यूज साइटों से ज्यादा नुकसान तो चैनल और अखबार करते हैं जो दावा करते हैं कि उनकी खबरें सही होती हैं. मंडल कमीशन के खिलाफ राममंदिर का पूरा आंदोलन फर्जी साइट्स ने नहीं, अखबारों और चैनलों ने चलाया. आरक्षण के खिलाफ माहौल अखबार और चैनल बनाते हैं. दंगे चैनल और अखबार कराते हैं.Read More


सोशल मीडिया को लेकर भारत में तीन समस्याएं

Dilip C Mandal सोशल मीडिया को लेकर भारत में तीन ऐसी समस्याएं हैं, जिन्हें दुनिया में कहीं भी समस्या नहीं माना जाता। 1. हाय, मैं ट्रोल हो गया या मुझे ट्रोल किया गया। 2. हाय, लोगों ने मुझे गाली दे दी या धमकी दे दी। 3. हाय, मुझे लोग टैग कर करके परेशान कर देते हैं। ये दरअसल कोई समस्या नहीं है। टैग को अगर आप फ़िल्टर नहीं कर पाते तो यह आपका तकनीकी अज्ञान है। किसी बच्चे से पूछ लीजिए। वह बता देगा कि टैग आपकी टाइमलाइन पर आपकेRead More


‘हिंदी दिवस’ का कर्मकांड ?

ध्रुव गुप्त आज हिंदी दिवस है। हमारी राष्ट्रभाषा हिंदी के प्रति अश्रु-विगलित भावुकता का दिन। हर सरकारी या गैर सरकारी मंच से हिंदी की प्रशस्तियां गाई जाएंगी, लेकिन जिन कमियों की वज़ह से हिंदी आजतक राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपना अपेक्षित गौरव हासिल नहीं कर पाई है, उनकी बात कोई नहीं करेगा। हिंदी कल भी भावनाओं की भाषा थी, आज भी भावनाओं की ही भाषा है ! आज के वैज्ञानिक और अर्थ-युग में किसी भी भाषा का सम्मान उसे बोलने वालों की संख्या और उसका साहित्य नहीं, विज्ञान कोRead More


बिहार में मुखिया, उप मुखिया अब मंत्री केआदेश पर ही होंगे बर्खास्त

कुंदन कुमार, मुजफ्फरपुर. विभिन्न तरह के आरोपों में विभागीय कार्रवाई की मार झेल रहे मुखिया व उपमुखिया के लिए बड़ी खबर है। राज्य सरकार ने आदेश जारी करते हुए मुखिया व उपमुखिया पर कार्रवाई शुरू करने और कार्रवाई के अंत में बर्खास्त करने के लिए विभागीय मंत्री का अनुमोदन अनिवार्य कर दिया है। सरकार के इस निर्णय से मुखिया संघ भी खुद को असहज महसूस कर रहा है। संघ का कहना है कि अब कार्रवाई में सरकार के पक्ष के लोगों का बचाव किया जाएगा और विरोधियों को निशाना बनाया जाRead More


छठिहार महोत्सव : कान्हा की भक्ति में डूबा हथुआ शहर

सुनील कुमार मिश्र (हथुआ) स्थानीय गोपाल मंदिर में पारंपरिक छठिहार महोत्सव धूमधाम से मनाया गया। हजारों की संख्या में श्रद्धालुओं ने शनिवार की रात मंदिर पहुंच कर श्रद्धा व विश्वास के साथ पूजा अर्चना किया और देर रात तक भक्तिमय सांस्कृतिक कार्यक्रम का आनंद लिया। कार्यक्रम को लेकर हथुआ की सड़कें रात भर गुलजार रही। महोत्सव का उद्घाटन हथुआ राज परिवार की महारानी पूनम साही व युवरानी विदिशा साही ने दीप प्रज्जवलित कर किया। मुख्य पुजारी आशुतोष तिवारी के नेतृत्व में पूजा अर्चना की गयी। उसके बाद इंपीरियल पब्लिक स्कूलRead More


गोपालगंज : मानसून कार रैली ने दिया सेफ ड्राइविंग का संदेश

सुनिल कुमार मिश्रा, बिहार कथा,हथुआ। रोड सेफ्टी और नियमों के पालन का संदेश लेकर जिले के थावे दुर्गा मंदिर परिसर पहुंची। जहां से रैली अपने निर्धारित रूट से कुशीनगर चली गयी। मगध मोटर्स स्पोर्टस क्लब पटना के तत्वावधान में 13वीं वाक्सवैगन मानसून कार रैली गांधी मैदान पटना स्थित हथुआ हाउस से निकली गयी थी। रैली में 15 कारों पर सवार प्रतिभागी पटना से थावे होते हुए रोमांचक सफर पर कुशीनगर पहुंचे। रैली के संयोजक प्रणव साही ने बताया कि रैली का आयोजन पिछले 12 वर्षो से किया जा रहा है। प्रतिवर्षRead More


गोपालगंज : ये लोग नाली के कीचड़ से निकाल लेते हैं सोना

गोपालगंज की सोनार गली में कुछ रिफ्यूजी जो मध्यप्रदेश से आते हैं यहां की सोनार गली के किनारे बहने वाली नाली की कीचड़ से सोना निकालते हैं। ये तकनीक सिर्फ इन्हें ही पता है। जानिए कैसे गोपालगंज. आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि जिस गंदी नाली के बगल से गुजरने में लोग नाक-भौं सिकोड़ते हैं, उसी से मध्य प्रदेश के सिद्धहस्त कारीगर हर दिन 10 से 30 ग्राम सोना निकाल रहे हैं। मीरगंज नगर के सोनार गली की नाली के कीचड़ से सोना निकालने वाले ये कारीगर लोगों के बीच कौतुहलRead More


हां! मैं रामकृपाल, कभी था लालू का हनुमान

हां! मैं रामकृपाल, कभी था लालू का हनुमान! के. विश्वनाथ : कहते हैं कि भगवान् राम को 14 बरस का वनवास मिला था। मां कैकेई की वजह से। धर्म के ज्ञाता इस वनवास को अलग-अलग तरीके से परिभाषित करते हैं। भारतीय जनमानस उस परिभाषा में डूबता-उभरता रहता है। सदियों से यह कहानी हमारे समाज में प्रचलित है। राम के वन गमन के पीछे के अपने तर्क भी हैं। उन्होंने कइयों का संहार भी किया, तो कइयों का उद्धार भी। महानता की यही पहचान है। राम आए और चले गए, लेकिनRead More


सीतामढ़ी कोर्ट परिसर में अंधाधुंध फायरिंग, गैंगस्टर संतोष झा को गोलियों से भूना

सीतामढ़ी। बिहार के सीतामढ़ी में कुख्यात संतोष झा की सीजेएम कोर्ट परिसर में पेशी के दौरान पुलिस के पहरे के बीच करीब तीन बजे गोली मारकर हत्या कर दी गई। अपराधियों द्वारा करीब 20 राउंड फायरिंग किए जाने के दौरान सीजेएम कोर्ट का एक चपरासी भी घायल हो गया। बताया गया है कि सीजेएम कोर्ट में मंगलवार को पेशी के लिए भारी सुरक्षा व्यवस्था के बीच संतोष झा को सीतामढ़ी जेल से ही लाया गया था। पेशी के बाद पुलिस उसको लेकर जा रही थी तो पूर्व से घात लगाए अपराधियों ने संतोष झाRead More


Share
Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com