gaya

 
 

बिहार का एक गांव जहां एक भी व्यक्ति साक्षर नहीं, रंग से करते रुपये की पहचान

अरविंद कुमार सिंह.गया ( जागरण से साभार)  एक तरफ हम चांद पर घर बसाने की बात करते हैं तो वहीं एक क्षेत्र ऐसा भी है जहां अभाव में लोग कंद-मूल खाकर गुजारा करते हैं। 120 लोगों के टोले में एक भी व्यक्ति साक्षर नहीं । रुपये की पहचान भी उसका रंग देखकर करते हैं। सरकार की कोई योजना आज तक यहां सिरे नहीं चढ़ी। हम बात कर रहे हैं गया जिले के कठौतिया केवाल पंचायत के बिरहोर टोले की। प्रखंड से 15 किलोमीटर दूर जंगल में बसे बिरहोर जाति केRead More


बिहार में गाजे-बाजे के साथ निकली सांड की शव-यात्रा

गया. बिहार के गया ज़िले के बड़ा बाजार इलाक़े में शनिवार को एक अजीब नज़ारा देखने को मिला. हर-हर महादेव के नारे की गूंज और ढोलक की थाप के बीच यहाँ एक सांड की शव-यात्रा निकाली गई. भाईचारे की मिसाल पेश करते हुए इस शव-यात्रा में क़रीब 150 लोग शामिल हुए जिनमें हिंदू और मुसलमान, दोनों थे. सांड का शव एक बैलगाड़ी पर रखा हुआ था और उसके कफ़न को फूल-माला से सजाया गया था.  स्थानीय लोगों ने इस गाड़ी को पूरे बाज़ार में घुमाया. तक़रीबन 10 साल की उम्रRead More


Share
Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com