बेगूसराय में एससी एसटी कानून के खिलाफत में आया सवर्ण समाज

बेगूसराय से बिहार कथा.अजय शास्त्री की रिपोर्ट
सुशासन बाबू के पूर्व मंत्री व नीतीश कुमार के चहेते पूर्व मंत्री श्याम रजक को स्थानीय सवर्ण समाज के लोगों ने विरोध किया है. बेगूसराय में सवर्ण आंदोलन के दौरान फर्जी मुकदमे किये जाने के विरोध में स्वर्ण सेना के लोगों ने जिला प्रशासन और जिला पुलिस प्रशासन के खिलाफ सड़कों पर नारेबाजी किया और समाहरणालय स्थित एसपी कार्यालय का घेराव किया। आंदोलनकारियों ने कहा कि पुलिस सवर्णो के खिलाफ झूठा मुकदमा वापस ले. वहीं आंदोलनकरियों ने पुलिस अधीक्षक से मिलकर निर्दोष लोगों को छोडने की मांग कर रहे थे। लोगो का कहना यह भी है कि जदयू के नेता श्याम रजक पर हुए हमले के आरोप में कई निर्दोष लोगों के खिलाफ पुलिस झुठा मुकदमा कर सवर्णो पर नामजद प्राथमिकी दर्ज करवा रही है। जिससे लोग आक्रोशित होकर जिला प्रशासन और जिला पुलिस प्रशासन के खिलाफ जमकर पुरे शहर में नारेबाजी की और बिहार सरकार के पूर्व मंत्री श्याम रजक और अखिलेश शर्मातथा विद्या मंझी सहित 15 अंगरक्षकों पर बेगूसराय न्यायालय में मुकदमा दर्ज किया।
सवर्ण सेना के लोगो का यह भी आरोप है कि भारत बंद के दिन पुलिस की मौजूदगी में प्रदर्शन कर रहे थे। पर सरकार के लोगों ने हमला किया। आरोप है कि श्याम रजक और उसके सुरक्षा गार्डों ने जानबूझकर जमकर्मियो को पीटा और सवर्णो गाली दिया। साथ ही झुठा मुकदमा कर फसाने की धमकी भी दिया।






Related News

  • बीच राह में फंसी हथुआ-भटनी रेलखंड परियोजना
  • मुकेश पांडेय के हाथों रिमॉडलिंग हेल्थ सेंटर जनता को समर्पित
  • हमरा मालिक के बोलवा दी ए एमपी साहेब, राउर जीनगी भर एहसान ना भूलेम !
  • मुखिया पति के मर्डर पर आक्रोशित हुए हथुआ प्रखंड के जनप्रतिनिधि
  • गोपालगंज : तीन साल पहले भी उपेंद्र सिंह को मारी थी गोली, तब बच गए थे
  • बेगूसराय में एससी एसटी कानून के खिलाफत में आया सवर्ण समाज
  • गोपालगंज : बरौली कोल्ड स्टोरेज ने किसानों को दिया धोखा
  • छठिहार महोत्सव : कान्हा की भक्ति में डूबा हथुआ शहर
  • Leave a Reply

    Share
    Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com