बृज बिहारी ने किया था छोटे व्यापारियों को संगठित

शहादत दिवस पर हथुआ में याद किए गए पूर्व मंत्री बृजबिहारी प्रसाद
Bihar Katha, Gopalganj. हथुआ.  पूर्व मंत्री अमर शहीद बृजबिहारी प्रसाद के शहादत दिवस पर दलित ओबीसी जनजागरण संघ ने एक सभा आयोजित कर उन्हें श्रद्धाजलि दी. इस मौके पर संघ स्वर्गीय बृजबिहार के कार्यों का याद किया. संघ के संयोजक संजय कुमार ने कहा कि 21 साल पहले बिहार और यूपी के गुंडों ने संयुक्त मोर्चा बनाकर उनकी हत्या कर दी। जिस दिन बृजबिहारी प्रसाद की हत्या हुई थी, उस दिन क्षेत्र में हजारों दलित पिछड़ा के घर मे चूल्हा नहीं जला था.
संजय कुमार ने कहा कि बिहार की छोटी व्यापारी जातियों जिसे बृजबिहारी प्रसाद ने वैश्य समाज के तहत संगठित किया था, ने तो अपना रखवाला खो दिया था। पूरे उत्तर बिहार में जनता दल और विशेष रुप से लालू प्रसाद को ताकतवर बनाने में बृज बिहारी प्रसाद ने काफी मेहनत की थी। वह दौर राजनीति में बाहुबल के बोलबाला का दौर था और बाहुबल सवर्ण जातियों के पास था। रघुनाथ पाण्डेय, छोटन शुक्ला, अशोक सम्राट जैसे बाहुबलियों के सामने पिछडे वर्ग के लोग चुनाव लड़ने की हिम्मत नहीं जुटा पाते थे। बृजबिहारी प्रसाद की बढ़ती लोकप्रियता से घबड़ाकर बिहार और यूपी के गुंडों ने उनकी हत्या कर दी। पिछड़ों ने अपना नायक खो दिया, सामाजिक न्याय की शक्ति क्षीण होने लगी और वैश्य एकता की गठरी खुल गई। आज बिहार में कृतज्ञ समाज के लोग उन्हें याद तो कर रहे हैं, पर उनके आदर्शों से दूर जा रहे हैं। इस मौके पर मृत्यंज कुमार, इंद्रजीत कुश, राजेश, ​बिनोद कुमार,धनंजय सिंह, संतोष प्रसाद समेत अनेक लोग उपस्थित थे.






Related News

  • लडकी ने नहीं दिया वाट्सअप नंबर, तो चाकू से चीर दिया पीठ
  • बिहारी लेखक को अब तक का सबसे बड़ा साहित्यिक सम्मान
  • मिथिलेश तिवारी के विधानसभा में गंदगी देख कर भडके डीएम
  • बिहार में गाजे-बाजे के साथ निकली सांड की शव-यात्रा
  • अधिवक्ता के निधन पर शोक सभा आयोजित
  • मंदिर के दरबार में हाजिरी लगाने वाले सभी भक्तों की मुरादें पूरा करती है बेगूसराय सिद्ध पीठ की बड़की दुर्गा अस्थान बीहट।
  • बेगूसराय मंडल कारा में सधन तलाशी, 3 मोबाइल व सिम कार्ड हुए बरामद।
  • बेगूसराय में अपराधियों ने वार्ड सदस्य की हत्या पीट-पीटकर बड़ी निर्ममता पूर्वक कर दी।
  • Comments are Closed

    Share
    Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com