थाने पहुंचकर बोली मां- नशे में धुत बेटा कर रहा जबर्दस्ती, मैंने मार डाला

बिहार कथा न्यूज नेटवर्क, गया.
पटना. बिहार में शर्मशार करने वाली एक सनसनीखेज वारदात सामने आई है. शराबबंदी में भी शराब के नशे में धुत एक बेटा घर में घुसकर अपनी मां की इज्जत लुटने की कोशिश कर रहा था. मां ने बेट के दुष्कर्म से बचाने के लिए तेज हथियार से हमला कर बेटे की हत्या कर दी और पुलिस के सामने स्वीकार किया कि हां, मैंने अपने बेटे को मार डाला। घटना गया जिले के भदवर थाने की नंदई पंचायत स्थित बेनीनगर गांव की है, जहां रविवार की देर रात सुरेंद्र बसखोर की उसकी मां ने ही तेज धारदार हथियार से हमला कर हत्या कर दी। पुलिस के समक्ष मृतक की मां ने खुद ही अपने बेटे की हत्या करने की बात को स्वीकार किया है। मृतक का नाम सुरेंद्र बसखोर बताया जा रहा है, उसकी मां चांद देवी का आरोप है कि उसका बेटा सुरेंद्र नशे की हालत में था और उसके साथ जबर्दस्ती कर रहा था। इसकी वजह से उसे यह कदम उठाना पड़ा। मौके पर पहुंची भदवर पुलिस ने शव को कब्जे में ले लिया है।
जानकारी के अनुसार, चांद देवी के तीन लड़के हैं। तीन लड़कों में सबसे बड़ा सुरेंद्र बसखोर है। चांद देवी का कहना है कि रविवार की देर रात उसका बेटा सुरेंद्र नशे की हालत में आया और उसके साथ जबर्दस्ती करने लगा। इस पर उसने अपने बचाव के लिए उस पर मोटी लकड़ी से सिर पर हमला कर दिया। इससे कुछ ही क्षण में उसकी मौत हो गयी। पुलिस का कहना है कि चांद देवी के परिवार के अन्य सदस्य घर से फरार हैं। थानाध्यक्ष अमित कुमार ने बताया कि मृतक की मां ने अपना अपराध स्वीकार किया है। मौके से एक लकड़ी बरामद कर ली गयी है। हालांकि, सिर पर किसी धारदार हथियार का निशान प्रथम दृष्टया प्रतीत हो रहा है।मामले की छानबीन की जा रही है। गांववालों का यह भी कहना है कि तीन दिन पहले सुरेंद्र व उसकी पत्नी के बीच मारपीट हुई थी। सुरेंद्र की पत्नी को चोटें भी आयी थीं। इस बात से वह खफा होकर मायके चली गयी थी। मृतक के दो बच्चे भी हैं।






Related News

  • 26 वर्ष की मेहनत के बाद हथुआ के समीर को मिली बीपीएससी में सफलता
  • बरौली में रक्तदान, अब एम्बुलेंस की योजना
  • गोपालगंज : जलजमाव के समस्या को ले अनिश्चित कालीन भूख हड़ताल
  • एक साल का हुआ थावे का शाही पल्लवी इंटरनेशन होटल
  • सद्भावना को ले हुआ चित्रकला का प्रोग्राम
  • (सीवान) परिजनों ने हत्या का लगाया आरोप।
  • (सीवान) शहीद स्मारक स्थल आज बाजारों के नाम से बेशुमार
  • हाय रे हथुआ, ऐसी बदहाली तो पहले नहीं थी!
  • Comments are Closed

    Share
    Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com