हथुआ के कैसर ने संग्रह की 85 देशों की दुर्लभ मुद्राएं

मुगल व निजाम कालीन सिक्के भी हैं मौजूद , पिछले 20 सालों से है मुद्रा संग्रह का जुनून, विश्व के सुदूरवर्ती देशों की मुद्राएं भी है संग्रह में 

सुनील कुमार मिश्र. गोपालगंज. हथुआ प्रखंड के सवरेंजी गांव निवासी एक युवक ने 85 देशों की मुद्राओं का संग्रह कर एक उपलब्धि हासिल की है। पेशे से इंजीनियर कैसर जमाल खान ने विभिन्न देशों के मुद्राओं का एक अनूठा संग्रह तैयार किया है। उनके पास एशिया के अधिकांश  देशों के अलावा अफ्रीका,यूरोप,उत्तरी व दक्षिणी अमेरिका महादेशों के सुदूरवर्ती देशों के नोटों व सिक्कों का बेहतरीन खजाना है। दिलचस्प बात यह है कि टोबैगो व त्रिनिडाड,मेडागास्कर, बोत्सवाना, मोजाम्बिक,जायरे जैसे देश जहां भारतीय नागरिकों का आना-जाना काफी कम होता है,वहां के भी आकर्षक व दुर्लभ नोट कैसर के एलबम की शोभा बढ़ा रहे हैं। कैसर के पास हर तरह के पुराने भारतीय नोटो का भी संग्रह है। रिजर्व बैंक के मिस प्रिंटिंग वाले दुर्लभ नोट भी है। कैसर के पास मुस्लिम कंट्री इंडोनेशिया का वह अदभूत नोट भी है,जिसमें गणेश भगवान की तस्वीर है। कैसर के संग्रह में हैदराबाद के निजाम व मुगल काल के भी दुर्लभ सिक्के हैं। कैसर का दावा है कि किसी मुस्लिम महिला के तस्वीर वाला पहला सिक्का, जो बेनजीर भुट्टो की बरसी पर चंद सिक्के जारी हुए थे। उनमें से एक दुर्लभ सिक्का उनके पास है। कैसर कहते हैं कि उनके पास मौजूद कई मुद्राएं अब प्रचलन में नहीं हैं। पेशे से मैकेनिकल इंजीनियर व विदेश में नौकरी करने वाले कैसर आज कल अपने गांव में रह रहे हैं। बड़े भाई अनवर अली खान की प्रेरणा से कैसर को मुद्रा संग्रह का शौक जगा। कैसर को सभी मुद्राएं गिफ्ट या एक्सचेंज में मिली। मीरगंज नगर के हड्डी रोग विशेषज्ञ डा फिरोज आलम कहते हैं कि जब कभी वे विदेश दौरे पर जाते हैं,तो कैसर के शौक को देखते हुए संबंधित देश की मुद्रा गिफ्ट में लाते हैं। डा फिरोज द्वारा हाल ही में कैसर को जॉर्जिया,यूक्रेन,रूस आदि देशों की मुद्राएं गिफ्ट में मिली है। कैसर को मुद्रा संग्रह करने का शौक 1997 से है। समय गुजरने के साथ ही उनका यह शौक जुनून में बदल गया। कैसर कहते है कि हर किसी के पास एक हॉबी होनी चाहिए। इससे मन को शांति मिलती है,साथ ही कुछ अच्छा करने की प्रेरणा मिलती है। प्राचीन सिक्कों व नोटों के संग्रह का उद्देश्य पूछे जाने पर वह कहते हैं कि यह सिर्फ शौक है।






Related News

  • मिथलेश तिवारी ने की गोरखपुर-थावे-पाटलीपुत्र एक्सप्रेस इंटरसिटी चलाने की मांग
  • भाई ने जान गंवाकर बहन को किडनैप होने से बचाया
  • छपरा : एक करोड़ 90 लाख रुपये लूट की योजना हुई विफल तो मारी गोली
  • 30 बेड वाले अस्पताल से रात भर रेफर होते रहे नवजात, मंजीत सिंह ने कहा- मंगल पांडे दिखाएं व्यक्तिगत रुचि
  • मशरक में कमिश्नर ने बाबासाहब की मूर्ति का अनावरण किया, रात में सामंतवादियों ने तोड़ दिया
  • Bihar के Hathua में एक ऐसा महल जहाँ आज भी सजी है राजा की शाही सभा
  • गोपालगंज : बरौली के लाल अफाक को युवा कांग्रेस में प्रदेश प्रवक्ता की कमान
  • गोपालगंज: मर्डर हुआ टीपी सिंह का और खौफ में आ गए सुनील सिंह!
  • Comments are Closed

    Share
    Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com