हथुआ के गोपेश्वर कॉलेज में गुंजेगी एनसीसी की लेफ्ट-राइट,लेफ्ट-राइट

कॉलेज में शुरू होगी एनसीसी की बंद पड़ी यूनिट
बिहार कथा न्यूज नेटवक.हथुआ, गोपालगंज.
गोपेश्वर महाविद्यालय हथुआ में पिछले पांच वर्षो से बंद पड़ी एनसीसी यूनिट अब जल्द ही चालू होगी। कॉलेज में निर्धारित उम्र सीमा के प्राध्यापक की पदस्थापना हो जाने के कारण अब कॉलेज को नोडल पदाधिकारी के कमी की समस्या अब दूर हो गयी है। कॉलेज के अंग्रेजी विभागाध्यक्ष डा प्रकाश कुमार को नोडल पदाधिकारी के रूप में पदस्थापित करने की अनुशंसा कॉलेज प्रशासन द्वारा कमांड ऑफिस छपरा भेज दी गयी है। कमांड ऑफिस से स्वीकृति मिलते ही छात्रों का नामांकन एनसीसी यूनिट में शुरू हो जाएगा। यहां बताते चले कि कॉलेज में वर्ष 2009 में एनसीसी के एक यूनिट की स्थापना हुई थी। लेकिन वर्ष 2012 में कॉलेज में निर्धारित आयु सीमा के नोडल अधिकारी के रूप में प्राध्यापक नहीं होने के कारण यूनिट को बंद करना पड़ा था। कॉलेज में एनसीसी यूनिट के संचालन के दौरान प्रत्येक वर्ष 160 छात्र-छात्राओं को प्रशिक्षित किया जाता था। कॉलेज से कैडेटों का दल जिला व राज्य स्तर पर परेड व प्रशिक्षण शिविरों में भाग भी लेता था। पहले वर्ष कैडेटों को बी और दूसरे वर्ष सी सर्टिफिकेट को प्राप्त हुए। कॉलेज में अगस्त से लेकर फरवरी तक सत्र चलता था। जिस दौरान कैडेटों के प्रशिक्षण व पद चाप से कॉलेज कैंपस गुलजार रहता था। कैडेट अपना कैरियर सवारने के साथ-साथ कई सामाजिक कार्यो को सामूहिक रूप से अंजाम देते थे। अब यूनिट के बंद होने से छात्र-छात्राओं की मुश्किलें बढ़ गयी थी। एनसीसी के माध्यम से सैन्य सेवाओं में जा कर देश की सेवा करने का उनका सपना अब टूटता नजर आ रहा था। लेकिन अब एनसीसी यूनिट के चालू होने से छात्र-छात्राओं में खुशी की लहर है। निर्धारित उम्र सेवा के प्राध्यापक की कमी से बंद हुई थी यूनिट गोपेश्वर कॉलेज में जब एनसीसी की यूनिट स्थापित हुई,तब कॉलेज के भूगोल विभाग के शिक्षक प्रो. राजेश्वर बैठा को नोडल पदाधिकारी बनाया गया था। नोडल पदाधिकारी बनने के लिए उम्र सीमा 40 वर्ष से अधिक नहीं होने की बाध्यता है। जब प्रो. बैठा ने निर्धारित उम्र सीमा को पार किया तो उन्हें दो वर्षो तक केयर टेकर के रूप में रखा गया। लेकिन नये अधिकारी के नहीं मिलने पर बाद में एनसीसी यूनिट को बंद कर दिया था।
एनसीसी के कारण बिना लिखित परीक्षा के कई युवा पा चुके हैं नौकरी
एनसीसी सर्टिफिकेट से मिलती है नौकरी गोपेश्वर कॉलेज के कई कैडेटों ने कॉलेज से मिले एनसीसी सर्टिफिकेट से सैन्य सेवाओं में नौकरी भी पायी। हथुआ के ग्रामीण क्षेत्रों के एक दर्जन से अधिक युवाओं का बिना लिखित परीक्षा के ही सैन्य सेवाओं में डायरेक्ट बहाली भी हुई। एनसीसी के बी व सी सर्टिफिकेट वाले कैडेट्स को स्नाकोतर कक्षाओं में प्रवेश के समय बोनस मिलते हैं। बीएसएफ,पुलिस सेवा में सी प्रमाण पत्र धारक को प्राथमिकता दी जाती है। सेना में कमीशन प्राप्त करने के लिए सी प्रमाण पत्र धारक के लिए 65 सीटें आरक्षित हैं। सेना में लेफ्टिनेंट बनने के लिए सी प्रमाण पत्र धारक को संघ लोक सेवा परीक्षा देने की जरुरत नहीं है।
गोपेश्वर कॉलेज के प्राचार्य डा बैकुंठ पांडेय ने बताया कि कॉलेज में एनसीसी की मान्यता अभी रद्द नहीं हुई थी। सिर्फ स्थागित की गयी थी। कॉलेज में 40 वर्ष की उम्र के नीचे के व्याख्याता की बहाली हो गयी है। कॉलेज द्वारा नोडल पदाधिकारी का चयन कर अनुशंसा कमांड ऑफिस में भेज दिया गया है। जल्द ही एनसीसी यूनिट कॉलेज में पुन: शुरू हो जाएगी।






Related News

  • सीवान ब्लड डोनर क्लब व रेडक्रॉस सोसायटी चलाएगा सयुंक्त अभियान
  • सीवान : रिलीज रोकने का विरोध पद्ममावती फिल्म के प्रदर्शन
  • सीवान : सिवान की दो बेटियां बिहार के सिनीयर पुरुष हैंडबॉल स्टेट चैम्पियनशिप में होगी रेफरी।
  • सीवान : परिवर्तनकारी प्रारंभिक शिक्षक संघ ने मुख्यमंत्री का पुतला फूंका
  • बिहार में कहां खत्म हो रही है जातिगत भेदभाव, मुखिया ने दलित युवक के मुंह पर थूका
  • सीवान : सरकार के रवैया से मैं खुश नही -तारा
  • शर्मनाक! बिहार के स्वास्थ मंत्री मंगल पांडे के प्रभार वाले जिले में एक अस्पताल ऐसा भी
  • हाय रे बिहार! भगवान बुद्ध की धरती पर डायन कह कर पीटी गई महिला
  • Leave a Reply

    Share
    Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com